Railway: रेलवे स्टेशन में पिट लाइन सुविधा की दरकार, अभाव में अक्सर रद्द हो रही ट्रेनें

छिंदवाड़ा. मॉडल रेलवे स्टेशन में एक बार पिट लाइन की मांग जोर पकडऩे लगी है। हालांकि इस बार भी यह मांग यात्री उठा रहे हैं। जबकि जरूरत है कि स्थानीय जनप्रतिनिधि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अधिकारियों को इस तरफ ध्यान दिलाएं। गौरतलब है कि रेलवे बोर्ड ने निजामुद्दीन-पलवल सेक्शन में फरीदाबाद रेलवे स्टेशन पर चौथी लाइन के नॉन इंटरलॉकिंग कार्य के लिए पातालकोट एक्सप्रेस को 27 फरवरी से 2 मार्च तक रद्द करने का फैसला लिया है। पातालकोट एक्सप्रेस का 27 फरवरी से दो मार्च तक छिंदवाड़ा से दिल्ली एवं 26 फरवरी से 1 फरवरी तक दिल्ली से छिंदवाड़ा के बीच परिचालन नहीं किया जाएगा। ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब छिंदवाड़ा से चलने वाली दो प्रमुख ट्रेनों को रद्द किए जाने का निर्णय लिया गया हो। इससे पहले रेलवे ने पॉवरखेड़ा रेलवे स्टेशन पर नॉनइंटर लॉकिंग कार्य के चलते 26 सिंतबर से 1 अक्टूबर 2018 तक पेंचवैली फास्ट पैसेंजर का परिचालन रद्द कर दिया था। कार्य समय पर पूरा नहीं हुआ तो रेलवे ने ट्रेन के रद्द होने की तिथि दो दिन और बढ़ा दी। इसके पश्चात एक बार फिर निर्माण कार्यों के चलते 9 से 20 मार्च 2019 तक पेंचवैली पैसेंजर को रद्द किया गया। इसके पश्चात उत्तर मध्य रेलवे में रखरखाव के आवश्यक निर्माण कार्य एवं अपग्रेडेशन के कार्यों के कारण पातालकोट एक्सप्रेस को पांच दिन के लिए रद्द किया गया। पातालकोट एक्सप्रेस 25 से 29 मार्च 2019 तक रद्द रही। इसके बाद झांसी मंडल में नॉन इंटरलॉकिंग सहित अन्य कार्य के चलते पातालकोट एक्सपे्रस का परिचालन 13 दिनों तक रद्द कर दिया गया था। पातालकोट एक्सप्रेस का 19 से 31 मई तक छिंदवाड़ा से दिल्ली सराय रोहिल्ला एवं 18 से 30 मई तक दिल्ली सराय रोहिल्ला से छिंदवाड़ा तक परिचालन नहीं किया गया। इसके बाद रेलवे ने पेंचवैली फास्ट पैसेंजर का परिचालन 29 दिसंबर से तीन जनवरी 2019 तक रद्द किया था।

क्या है निवारण
मॉडल रेलवे स्टेशन से दिन में छिंदवाड़ा से भोपाल होते हुए दिल्ली तक एक ट्रेन एवं रात में छिंदवाड़ा से भोपाल होते हुए इंदौर तक एक ट्रेन का परिचालन किया जाता है। यह दोनों ही ट्रेनें छिंदवाड़ा एवं आसपास के जिलों के लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं। ट्रेनों के रद्द होने से यात्रियों को भटकना पड़ता है। मजबूरी में उन्हें बस एवं अन्य साधन से महंगा किराया देकर सफर करना पड़ता है। ऐसे में स्टेशन में पिट लाइन सुविधा की दरकार है। इस सुविधा के बाद छिंदवाड़ा रेलवे स्टेशन में ट्रेनों की साफ-सफाई एवं तकनीकी जांच हो पाएगी। इससे कम से कम ट्रेनों को छिंदवाड़ा से वहां तक परिचालन कराया जा सकेगा जहां तक संभव है।

पिट लाइन का प्रस्ताव नहीं है
पिट लाइन होने से ट्रेन का मेंटनेंस हो जाता और ट्रेन का परिचालन जहां तक संभव है वहां तक किया जा सकता था। हालांकि अभी छिंदवाड़ा मॉडल रेलवे स्टेशन में पिट लाइन का कोई प्रस्ताव नहीं है।
संतोष श्रीवास, रेलवे स्टेशन प्रबंधक, छिंदवाड़ा

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।