सावन के आखिरी सोमवार पर शिव मंदिरों में भक्तों का लगा तांता

By: Chandra Shekhar Sakarwar

Published On:
Aug, 13 2019 11:16 AM IST

  • फिजाओं में गूंजी ओम नम: शिवाय की स्वर लहरियां

छिंदवाड़ा. सावन के आखिरी सोमवार पर शिवालयों में आस्था उमड़ी। पूरे दिन ओम नम: शिवाय के साथ भोले के जयकारों से मंदिर गुंजायमान हुए। आखिरी सोमवार पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता शिव मंदिरों में लगा। हर कोई भोले बाबा के ध्यान में लीन दिखा। शिवालयों में भगवान की विशेष पूजा, अभिषेक और शृृंगार किया गया। शहर के कई मंदिरों में सोमवार के आयोजन की खास तैयारियां की गईं थीं।
आखिरी सोमवार के दिन महादेव का रुद्राभिषेक करने के बाद फूल पत्तियों के साथ उनका आकर्षक शृृंगार किया गया। ब्रह्म मुहूर्त में पूजन शुरू हुए जो दिन भर चला। कई मंदिरों के साथ सार्वजनिक रूप से मंडलों तथा घरों में भी पूजन, हवन के पश्चात भंडारे का आयोजन हुआ। अनगढ़ हनुमान मंदिर में 12 शिवलिंगों का अभिषेक किया गया। वहीं छोटी बाजार स्थित राम मंदिर में पंचमुखी शिवलिंग का सहस्त्रधाराओं से अभिषेक हुआ। मंदिर में हर सप्ताह की तरह इस बार भगवान पशुपतिनाथ की झांकी सजाई जाएगी। यहां सुबह से ही भक्तों की भारी भीड़ रही। लोगों ने पूजन के पश्चात भगवान पशुपतिनाथ का दर्शन किया।
टाउनहॉल स्थित शिव मंदिर में खास आयोजन हुआ। इसके अलावा बसंत कॉलोनी स्थित शिव मंदिर, कालीबाड़ी में काली मंदिर के सामने स्थित शिव मंदिर, कलेक्ट्रेट के सामने स्थित शिव मंदिर सहित अन्य मंदिरों में विशेष पूजन के साथ कार्यक्रम आयोजित हुए।
दो लाख बेल-पत्र से हुआ शिव अभिषेक
सावन पर्व की समाप्ति पर जिला अस्पताल के सामने पशु चिकित्सा कार्यालय परिसर में स्थित मंदिर में महादेव को दो लाख ग्यारह हजार तीन सौ तैतीस बेल-पत्र से अभिषेक किया गया। रविवार की सुबह 11 बजे से यह अभिषेक शुरू हुआ था, जिसका समापन सोमवार को विशेष पूजन के साथ हुआ। पशु चिकित्सा विभाग और राज्य कर्मचारी संघ के साथ व्यापारी बंधुओं ने यह पूजन किया।

Published On:
Aug, 13 2019 11:16 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।