College: प्रोफेसर ने किताबों को लेकर कह दी यह बात, पढ़ें पूरी खबर

मनुष्य के जीवन में पुस्तकों का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान होता है।


छिंदवाड़ा. मनुष्य के जीवन में पुस्तकों का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान होता है। यह न केवल व्यक्ति के ज्ञानचक्षु को खोलती है, बल्कि उसे जीवन जीने की कला भी सिखाती है। अच्छी पुस्तकों का सत्संग मनुष्य में श्रेष्ठ गुणों का अंतर्भाव करती है। यह विचार मंगलवार को राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज में व्यक्तित्व विकास प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित व्याख्यानमाला के अंतर्गत मुख्य ग्रंथपाल विमल सिंह चौधरी ने व्यक्त किए। डॉ. वीपी सिंह ने कहा कि पुस्तकें मस्तिष्क की खुराक होती हैं। प्राचीन भारत के नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालयों में पुस्तकों की बहुलता और विषयों की विविधता के चलते ही विदेशी यात्री ज्ञान प्राप्ति हेतु आते थे। डॉ. विजय कलमधार ने आंतरिक सुरक्षा और आतंकवाद विषय पर व्याख्यान देते हुए कहा कि आतंकवाद एक वैश्विक समस्या है, जो हमारी एकता और अखंडता के लिए बड़ा खतरा है। धार्मिक कट्टरता, संकीर्णता और साम्प्रदायिकता राष्ट्र के सर्वांगीण विकास में बाधक है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रकोष्ठ के संयोजक प्रो. सीताराम शर्मा ने कहा कि शासन की मंशानुरूप आयोजित व्यक्तित्व विकास की विविध गतिविधियों में छात्राओं को अपनी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए। प्राचार्य डॉ. कामना वर्मा की अध्यक्षता में आयोजित इस कार्यक्रम में हिंदी विभाग के शोभाराम जम्होरे, नीता वर्मा, प्रियंका पाठक, काफी संख्या में छात्राएं सहित अन्य गणमान्य मौजूद रहे।

Show More
ashish mishra
और पढ़े
Web Title: College: Professor said this about books
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।