दो कॉलेजों में बिगड़ सकते हैं हालात, प्रशासन को बनानी होगी व्यवस्था

By: Ashish Kumar Mishra

Updated On:
25 Aug 2019, 12:25:47 PM IST

  • जिले के गल्र्स कॉलेज एवं पीजी कॉलेज में स्नातक एवं स्नातकोत्तर में प्रवेश को लेकर होड़ मची हुई है।

 

छिंदवाड़ा. जिले के गल्र्स कॉलेज एवं पीजी कॉलेज में स्नातक एवं स्नातकोत्तर में प्रवेश को लेकर होड़ मची हुई है। आलम यह है कि प्रवेश के अंतिम चरण में दोनों ही कॉलेजों में रिक्त सीट से दस गुना से अधिक आवेदन आए हुए हैं। ऐसे में पंजीयन एवं दस्तावेज सत्यापन के आधार पर 28 अगस्त से शुरु हो रहे ओपन दाखिला प्रक्रिया में इन दोनों ही कॉलेजों में गत वर्ष की तरह स्थिति बिगडऩे की संभावना है। गौरतलब है कि गत वर्ष राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज में प्रवेश को लेकर छात्र संगठन लामबंद हो गए थे। आलम यह था कि प्रवेश न मिलने पर छात्र संगठन के नेतृत्व में आवेदक छात्राओं ने उग्र प्रदर्शन किया था। जिसके वजह से पुलिस को भी हल्का बल प्रयोग करना पड़ा था। इस बार भी अगर प्रशासन ने समय रहते तत्परता नहीं दिखाई तो स्थिति बिगड़ेगी।

14 शासकीय कॉलेज में 40 प्रतिशत से अधिक सीट रिक्त
जिले में 16 शासकीय कॉलेज हैं। इसके बावजूद भी जिले के दूर-दराज क्षेत्रों के विद्यार्थियों की पसंद पीजी कॉलेज एवं गल्र्स कॉलेज में अध्ययन करने की रहती है। इस बार भी ऐसी स्थिति है। दोनों ही प्रमुख कॉलेज में जहां प्रवेश के लिए मारामारी हो रही है वही शेष 14 शासकीय कॉलेज में लगभग 30 से 40 प्रतिशत सीट खाली है। विशेषज्ञों के अनुसार अगर प्रशासन को स्थिति संभालनी है तो विद्यार्थियों को दूसरे कॉलेज में दाखिले के लिए मनाना होगा।

बिगड़ रही शैक्षणिक व्यवस्था
बीते वर्ष कॉलेज ने संसाधन न होने के बावजूद भी छात्र संगठन के दबाव में लगभग सभी विद्यार्थियों को प्रवेश दे दिया था। ऐसे में यूजीसी के नियम की धज्जियां उड़ी। इसके अलावा विद्यार्थी न ही लैब का फायदा उठा पाए और न ही रेगुलर क्लास का। पीजी कॉलेज एवं गल्र्स कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि विद्यार्थियों का प्रवेश तो हम ले लेते हैं, लेकिन उन्हें संसाधन के अभाव में अच्छी शिक्षा देने में व्यवधान उत्पन्न होता है।

चुनाव में मौका भुनाने का अवसर नहीं छोड़ेंगे छात्र संगठन
कॉलेजों में जल्द ही छात्र संघ चुनाव होने की सुगबुगाहट भी है। ऐसे में सभी आवेदक विद्यार्थियों को दाखिला दिलाने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई एड़ी चोटी का बल लगाएगी। जिससे उन्हें चुनाव में अधिक विद्यार्थियों का सपोर्ट मिल सके।

Updated On:
25 Aug 2019, 12:25:47 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।