भाजपा विधायक ने स्कूल में छात्र-छात्राओं को पहनाया बीजेपी का पट्टा, दिलायी सदस्यता!, मामले ने तूल पकड़ा तो दी सफाई

By: Mohd Rafatuddin Faridi

Updated On:
17 Jul 2019, 08:41:54 PM IST

  • मामले के तूल पकड़ने पर विधायक बोले सभी आरोप बेबुनियाद।

    जिला विद्यालय निरिक्षक ने भी विधायक को दे दी क्लीन चिट। कहा सब बातें बेबुनियाद।

चंदौली . यूपी के चंदौली जिले में एक इंटर कॉलेज में छात्र-छात्राओं को भारतीय जनता पार्टी के रंग में रंगने का मामला सामने आया है। दावा किया जा रहा है कि इन सबको सैय्यदराजा विधायक सुशील सिंह ने स्कूल की पढ़ाई बाधित कर बीजेपी की सदस्यता दिलायी। वहां के जो वीडियो सामने आए हैं उनमें भी विधायक जी एक-एक कर छात्र-छात्राओं को बुलाकर उनके गले में बीजेपी की पटि्टयां पहनाते दिखायी दे रहे है। यह कहते भी सुने जा रहे हैं कि कोई बचा तो नहीं जिसको सदस्यता लेनी हो। इसके अलावा स्कूल के बाहर कुछ छात्रों ने मीडिया को बयान देकर भी दावा किया कि विधायक जी ने वहां सदस्यता दिलायी। इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। पूरे मामले के तूल पकड़ने के बाद विधायक सुशील सिंह ने सामने आकर सफाई दी है। उनका दावा है कि वो स्कूल भले ही गए थे लेकिन जिस तरह की बातें कही जा रही हैं उनमें सच्चाई नहीं।

 

खबरों के मुताबिक सुशील सिंह के विधानसभा क्षेत्र सैय्यदरजा के नेशनल इंटर कॉलेज में मंगलवार को अपने लाव लश्कर के साथ पहुंचे और छात्र-छात्राओं को एक बड़े से कमरे में इकट्ठा कर राजनीतिक भाषण दिया। इसके बाद एक-एक कर सभी को भाजपा की पट्टिका पहनायी। कक्ष के बाहर सभी को एक साथ जमाकर उनका वीडियो बनाया गया और फोटो सेशन भी हुआ।

 

इसके बाद मीडिया के कुछ लोग पहुंचे और स्कूल के बाहर छात्रों से बात की तो छात्रों का दावा था स्कूल में शिक्षक उन्हें कार्यक्रम के बारे में बताकर कक्ष में ले गए थे। वहां विधायक जी आए थे और भाषण दिया। छात्र का दावा था कि कुछ छात्रों से भाजपा की सदस्यता के फॉर्म भी भरवाए गए। और सभी को बीजेपी की पट्टिका पहनायी गयी। इस मामले में जिला विद्यालय निरिक्षक विनोद कुमार राय ने स्कूल के प्रिंसिपल से भी स्पष्टीकरण मांगा है और स्कूल टाइम में किसी को सदस्यता दिलाए जाने के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने बिना प्रिंसिपल का स्पष्टीकरण आए ही विधायक को क्लीन चिट भी दे दिया है।

 

उधर इस मामले के तूल पकड़ता देख विधायक सुशील सिंह सफाई देने खुद सामने आए और सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। उनके मुताबिक स्कूल में पुस्कालय की मांग काफी समय से की जा रही है। इसी सिलसिले में वह बच्चों की मांग पर उनसे मिलने गए थे। उन्होंने दावा किया है कि उन्होंने स्कूल टाइम में किसी को सदस्यता नहीं दिलायी।

By Santosh Jaiswal

Updated On:
17 Jul 2019, 08:41:54 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।