कॉलेज हुआ सरकारी ढाई सौ गांवों के बेटे-बेटियों को मिलेगा उच्च शिक्षा का फायदा

By: pankaj joshi

Updated On:
10 Jul 2019, 09:16:14 PM IST

  • स्ववित्तपोषी भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय सरकारी हो जाने से नैनवां उपखंड सहित हिण्डोली, इन्द्रगढ व टोंक जिले के ढाई सौ से अधिक गांवों के बेटे-बेटियों को उच्च शिक्षा के लिए सरकारी कॉलेज मिल गया।

नैनवां. स्ववित्तपोषी भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय सरकारी हो जाने से नैनवां उपखंड सहित हिण्डोली, इन्द्रगढ व टोंक जिले के ढाई सौ से अधिक गांवों के बेटे-बेटियों को उच्च शिक्षा के लिए सरकारी कॉलेज मिल गया। सरकारी कॉलेज के अभाव में 12वीं कक्षा पास करने के बाद ही गांवो के सैकड़ों विद्यार्थियों को प्रति वर्ष उच्च शिक्षा से वंचित रहना पड़ रहा था। नैनवां के स्ववितपोषी महाविद्यालय को सरकारी कॉलेज का दर्जा मिल जाने से उच्च शिक्षा से वंचित नही रहना पड़ेगा। जिला मुख्यालय पर ही एक मात्र सरकारी कॉलेज है जो उपखंड के गांवों से 70 से 80 किमी दूर पड़ता है। नैनवां उपखंड की मुख्यालय से 30 किमी की परिधि में पचास से अधिक सीनीयर सैकण्डरी स्कूल स्थित है। 12 वी कक्षा पास करने के बाद ग्रामीण बच्चे उच्च शिक्षा तो प्राप्त करना चाहते है। पर परिवारों की आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर होती है कि वे बूंदी में रखकर अपने लालों को पढा सके। या 6 गुणा अधिक फीस भरकर स्ववितपोषी महाविद्यालय में दाखिला दिलाना पड़ता था या फिर पढाई छोडकर घर बैठना पड़ता था। उपखंड में पचास से अधिक सरकारी व निजी उच्च माध्यमिक विद्यालय संचालित हो रहे है। जिनमें प्रति वर्ष दो हजार से अधिक बच्चें 12वीं कक्षा पास करते आ रहे है। 12वीं पास करने बाद ही विद्यार्थियों के अभिभावकों को उच्च शिक्षा के लिए बाहर भेजने की चिंता सताने लग जाती है। सक्षम अभिभावक तो अपने बेटे व बेटियों को कोटा, बूंदी, टोंक या जयपुर के उच्च शिक्षा के संस्थानों में प्रवेश दिला लेते है। नैनवां उपखंड में 191 गांव शामिल है। इसके साथ ही नैनवां के नजदीकी हिण्डोली तहसील की सांवतगढ, रानीपुरा, छाबडियों का नयागांव, रूणीजा, गोठड़ा, टोंक जिले के बालूंदा, सतवाड़ा, गुराई, पलाई, बोसरिया, नगरफोर्ट, बालापुरा, घाड़, कनवाड़ा, भाणोली, ऐसी ग्राम पंचायतें है जिनके गांव भी नैनवां से बीस किमी की परिधी में ही पड़ते है। जिनके लिए नैनवां सबसे सुविधाजनक स्थान पड़ता है।

Updated On:
10 Jul 2019, 09:16:14 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।