संजय दत्त ने पूरी की पिता की आखिरी इच्छा, देखें वीडियो

Dilip chaturvedi

Publish: Sep, 14 2017 04:03:24 PM (IST)

संजय चार्टर्ड विमान से वाराणासी पहुंचे और रानी घाट में माता-पिता का 'पिंडदान' किया...

अभिनेता संजय दत्त ने अपने दिवंगत पिता सुनील दत्त की इच्छा पूरी करते हुए बुधवार को वाराणासी में उनका और अपनी दिवंगत मां नरगिस दत्त का श्राद्ध किया। संजय चार्टर्ड विमान से वाराणासी पहुंचे और रानी घाट में माता-पिता का 'पिंडदान' किया। नवरात्रि से पहले 15 दिन की श्राद्ध की अवधि के दौरान यह किया जाना शुभ माना जाता है। आठ ब्राह्मणों ने पूजा-पाठ और पिंडदान करने में मदद की। संजय की आगामी फिल्म 'भूमि' की सह-कलाकार अदिति राव हैदरी भी उनके साथ उपस्थित थीं। संजय ने बताया कि जब उनके पिता अस्पताल में थे, तो उन्होंने इच्छा व्यक्त की थी कि उनका श्राद्ध काशी में किया जाए। वाराणासी को ऐतिहासिक रूप से काशी के नाम से जाना जाता है। बता दें कि नेता-अभिनेता सुनील दत्त की मुंबई में 25 मई, 2005 को अचानक मृत्यु हो गई थी।

 

 

गौरतलब है कि आठ पुरोहितों ने काशी में पूरे विधि विधान के साथ पिंडदान किया। पिंडदान के दौरान वहां पर फूलों से बनी रंगोली भी नजर आई। पूरे पंडाल को हरी घास, दूर्वा से सजाया गया था। संजय दत्त ने आठ पुरोहितों के साथ पिता सुनील दत्त अपनी माता नरगिस, के साथ दादा-दादी और परदादा-परदादी का पिंडदान किया। पिंडदान के बाद संजय ने मां गंगा का अभिषेक 125 लीटर दूध से किया। अभिषेक के बाद उन्होंने आरती भी की। पिंडदान की पूरी विधि होने का बाद संजय पुरोहितों को दक्षिणा देकर विदा किया। गोयाकि, पिंडदान के दौरान फिल्म भूमि की कलाकार भी नजर आए। उन्होंने ने भी संजय के साथ इस विधि में अपना सह भाग दिया। बताया जाता है कि जैसे ही संजय दत्त के काशी पहुंचने की खबर लगी, उनके फैंस अपने नायक की एक झलक पाने के लिए रानी घाट की ओर भागे। घाट में काफी भीड़ एकत्र हो गई थी। सुरक्षा कारणों के चलते पुलिस को भीड़ को कंट्रोल करने के लिए हल्का बल प्रयोग भी किया।

More Videos

Web Title "Watch: Sanjay Dutt fulfills his late fathers last wish in banaras"