दो भाईयों में हो रहा विवाद बीच में पहुंच गई महिला तो भतीजे ने लीठी से वार कर उतार दिया मौत के घाट

By: Murari Soni

Published On:
Jun, 22 2019 10:24 PM IST

  • मरवाही थानांतर्गत ग्राम दर्रीटोला कटरा में शुक्रवार रात परिवारिक विवाद में पति-पत्नी में मारपीट हो गई। विवाद सुलझाने पहुंचे बड़े भाई से छोटा भाई भिड़ गया। महिला तो भतीजे ने लीठी से वार कर मौत के घाट उतार दिया(murder of woman)

बिलासपुर. मरवाही थानांतर्गत ग्राम दर्रीटोला कटरा में शुक्रवार रात परिवारिक विवाद में पति-पत्नी में मारपीट हो गई। विवाद सुलझाने पहुंचे बड़े भाई से छोटा भाई भिड़ गया। छोटे भाई के हमले से घायल हुए बड़े भाई के बेटे ने गुस्से में आकर चाची पर लाठी से हमला कर मौत के घाट उतार दिया। घटना में गंभीर रूप से घायल हुए दोनों भाइयों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती किया गया है।
मरवाही टीआई प्रदीप आर्या के अनुसार ग्राम दर्रीटोला कटरा निवासी रामप्रसाद पिता मोहन आयाम (40 ) किसान है। गांव में वह पत्नी अमरितिया बाई आयाम ( 48) के साथ रहता है। शुक्रवार रात रामप्रसाद और अमरितिया बाई बाजार में सब्जी बेचने के बाद घर पहुंचे। रोज की तहर दोनों ने छककर शराब पी। नशे में दोनों के बीच रात 8 बजे विवाद हो गया। मारपीट की सूचना मिलने पर गांव मे ंरहने वाला शिवप्रसाद का बड़ा भाई शिवप्रसाद ( 42) मौके पर पहुंचा। उसने पति पत्नी के बीच झगड़ा शांत कराने का प्रयास किया। इसी बीच रामप्रसाद पत्नी से विवाद करना छोड़ शिवप्रसाद से भिड़ गया। उसने टंगिया से शिवप्रसाद पर हमला कर दिया। हमले में शिवप्रसाद घायल हो गया। पिता पर हमला होने की सूचना मिलने पर शिवप्रसाद का बेटा अर्जुन आयाम ( 22) रामप्रसाद के घर पहुंचा और रामप्रसाद व चाचा अमरितिया बाई पर लाठी से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। हमले में दोनों घायल हो गए।

चाचा-चाची को छोड़ा, पिता को लेकर पहुंचा अस्पताल, पुलिस को दी झूठी जानकारी
घटना के बाद अर्जुन आयाम पिता शिवप्रसाद को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र उपचार कराने पहुंचा। उसने चाचा रामप्रसाद और अमरितिया बाई को गांव में ही घायल हालत में छोड़ दिया। अस्पताल से घटना की सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची तो अर्जुन ने उन्हें पारिवारिक विवाद पर मारपीट होने की बात कही। पुलिस ने दूसरे पक्ष के संबंध में पूछा तो उसने चाचा-व चाची के घायल नहीं होने की झूठी जानकारी दे दी।

 

सुबह मिली लाश के बाद गांव में मचा हड़कंप
शनिवार सुबह ग्रामीणों ने रामप्रसाद व अमरितिया बाई को आंगन में खून से लथपथ देखा। घटना के बाद गांव में हड़कंप मच गया। पुलिस मौके पर पहुंची , जहां अमरितिया बाई की मौत हो चुकी थी। वहीं घायल हालत में रामप्रसाद जमीन पर पड़ा था। उसे उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती किया गया। पुलिस ने अर्जुन व उसके पिता से पूछताछ की, जिसमें घटना की पूरी कहानी सामने आई। पुलिस ने अर्जुन को हिरासत में ले लिया है।


शव लेने परिजनों ने किया इनकार पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

पुलिस के अनुसार मृतका अमरितिया बाई ने रामप्रसाद से 10 वर्ष पूर्व दूसरी शादी की थी। पूर्व में उसका विवाद ग्राम गनया में हुआ था। पहले पति से उसे 3 लड़के हैं, जिन्हें 10 वर्ष पूर्व छोड़कर वह रामप्रसाद के साथ शादी कर रहने लगी थी। मृतका का शव सुपुर्दनामे में देने के लिए पुलिस ने उसके तीनों बेटे से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने शव को लेने से इनकार कर दिया। परिजनों ने भी अमरितिया बाई का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। पुलिस ने शाम करीब 5 बजे मृतका का अंतिम संस्कार किया।

Published On:
Jun, 22 2019 10:24 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।