बीकानेर : युवक की मौत पर भड़के परिजन, एसएचओ लाइन हाजिर

By: Jitendra Goswami

Published On:
Jul, 11 2019 10:00 AM IST

  • bikaner news: सुसाइड नोट में लगाए आरोप, सरपंच प्रतिनिधि सहित चार जनों के खिलाफ मामला दर्ज; परिजनों ने की थी कार्रवाई की मांग।

बीकानेर. जसरासर. युवक द्वारा जहर खाकर आत्महत्या करने के मामले में जसरासर सरपंच प्रतिनिधि, एसएचओ समेत चार जनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने के आरोप में मामला जसरासर थाने में दर्ज हुआ है।

 

वहीं पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जसरासर एसएचओ को लाइन हाजिर कर दिया है। इस संबंध में मृतक के पिता जसरासर निवासी भंवरलाल जाट की रिपोर्ट पर मामला दर्ज किया गया है। जसरासर निवासी श्यामसुंदर (35) पुत्र भंवरलाल जाट ने मंगलवार को जहर खा लिया, जिससे उसकी तबीयत खराब हो गई। परिजन उसे पीबीएम अस्पताल लेकर गए जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने शव को पीबीएम अस्पताल की मोर्चरी में शिफ्ट करवा दिया।

 

परिजनों को युवक के पास मिले सुसाइड नोट के आधार पर जसरासर सरपंच प्रतिनिधि रामनिवास, मुनीराम, सहीराम और जसरासर एसएचओ गौरव खिडिय़ा के खिलाफ कार्रवाई करने तथा गिरफ्तार करने की मांग को लेकर बुधवार को पीबीएम अस्पताल की मोर्चरी के सामने प्रदर्शन शुरू कर दिया।

 

प्रदर्शन की सूचना मिलने पर एएसपी ग्रामीण राजकुमार चौधरी, नोखा सीओ महमूद खां सहित शहर के कई थानों के अधिकारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों से वार्ता की। वार्ता के दौरान आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने तथा एसएचओ के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात पर सहमती बनने पर धरना-प्रदर्शन खत्म किया।

 

मरने से पहले सुसाइड नोट

राम-राम भाइयों... मैं सरपंच प्रतिनिधि रामनिवास व एसएचओ गौरव के कारण मर रहा हूं
मृतक श्यामसुंदर ने मरने से पहले सुसाइड नोट लिखा। उसने सुसाइड नोट में लिखा 'राम-राम भाइयों, मैं इस जिंदगी को छोड़कर जा रहा हूं और मेरे तीन बच्चे और तीन बहिनें हैं, मैं उसका आभारी हूं क्यूंकि मैं परेशान ज्यादा हूं। गांव का सरपंच प्रतिनिधि रामनिवास व थानाधिकारी गौरव परेशान कर रहे हैं, जिसके कारण मर रहा हूं। उसने अपने दोस्तों से उसकी मौत के जिम्मेदार सभी लोगों को सजा दिलाने की गुहार लगाई है।

 

इनका कहना है...
जसरासर प्रकरण में एसएचओ गौरव खिडिय़ा को लाइन हाजिर कर दिया गया है। उक्त
प्रकरण भादंसं की धारा 306 में दर्ज किया गया है। मामले में त्वरित कार्रवाई कर पीडि़तों को न्याय
दिलाया जाएगा।
राजकुमार चौधरी, एएसपी ग्रामीण

Published On:
Jul, 11 2019 10:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।