फानी से मची तबाही के बीच नवीन के मंत्री गायब, कांग्रेस ने सेना बुलाने की मांग की

By: Prateek Saini

Updated On: 15 May 2019, 04:32:15 PM IST

  • वरिष्ठ मंत्रियों के साथ ही प्रभावित इलाकों के प्रभारी मंत्री ऊर्जा एवं ग्रामीण विकास मंत्री, पंचायत राज्यमंत्री, नगरविकास मंत्री ये सब कोई दिख रहे हैं?...

(भुवनेश्वर): फानी चक्रवाती तूफान से ओड़िशा में मची तबाही के राहत व पुनर्वास कार्य बहुत धीमें चल रहा है। राहत पुनर्वास कार्यों की समीक्षा और गति देने वाले नवीन पटनायक सरकार के प्रभारी मंत्री और बीजू युवा वाहिनी के वालंटियर गायब हैं। ये आपदा से राहत के मौके पर कहाँ हैं? इसका जवाब कोई नहीें दे रहा है। उधर कांग्रेस ने राहत व पुनर्वास कार्य सेना को सौंपने की मांग की है।


मुख्यमंत्री बीजेडी अध्यक्ष नवीन पटनायक के अलावा कोई नहीं दिख रहा है। वरिष्ठ मंत्रियों के साथ ही प्रभावित इलाकों के प्रभारी मंत्री ऊर्जा एवं ग्रामीण विकास मंत्री, पंचायत राज्यमंत्री, नगरविकास मंत्री ये सब कोई दिख रहे हैं? चक्रवात ने तटीय क्षेत्र को तहसनहस कर दिया। दस हज़ार के करीब गाँव उजड़ चुके हैं। बिजली के सैकड़ों सबस्टेशन, टावर, हज़ारों ट्रांसफार्मर, हज़ारों खम्भे व किलोमीटर लंबी हाई व लो टेंशन लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं। 13 दिन बीत चुके हैं पुरी शेष दुनिया से कटा हुआ है। खोरदा, भुवनेश्वर, कटक में जनजीवन धीरे—धीरे सामान्य हो रहा है। ऐसे हालात में नवीन के मंत्रियों की अनुपस्थिति सरकार की आलोचना का विषय बनी हुई है। हालांकि चुनाव आयोग ने फानी प्रभावित ओड़िशा के 11 जिलों को चुनाव आचार संहिता से बाहर रखा है फिर भी यह अनदेखी समझ से परे बतायी जा रही है। ऊर्जा राज्य मंत्री सुशान्त सिंह ने अब तक राहत कार्यों का कोई रिव्यू नहीं किया। यही हाल लगभग नगरविकास एवं आवास मंत्री निरंजन पुजारी और ग्राम्य विकास मंत्री विक्रम केसरी आरुख का है। बताते हैं कि इन मंत्रियों ने फानी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा तक नही किया।


बीजू युवा वाहिनी भी चुप है। बीती 14 मार्च 2018 को मुख्यमंत्री पटनायक ने संघटन की लांचिंग के वक़्त कहा था कि किसी भी संकट या प्राकृतिक आपदा के समय बीजू युवा वाहिनी की भूमिका बढ़ जाती है। इस संगठन में ढाई लाख सदस्य बताये जाते हैं। जिनमे 60 हज़ार फानी प्रभावित क्षेत्र में सक्रिय हैं।


चक्रवात की प्रलय के एक हफ्ते बाद सरकार की आलोचना शुरू हुई तो स्वास्थ मंत्री प्रताप जेना और वन एवं पर्यावरण मंत्री विजयश्री राउतराय ने विभागीय समीक्षा बैठक की। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वरिष्ठ कांग्रेस लीडर नरसिंह मिश्र ने रहत एवं पुनर्वास कार्य के लिए सेना को बुलाने की मांग की। मिश्र का कहना है कि नवीन सरकार में मंत्री होने का कोई अर्थ नहीं है। उन्होंने इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की। बीजेडी प्रवक्ता इस पर वक्तव्य के लिए उपलब्ध नहीं हुए।

Updated On:
15 May 2019, 04:32:14 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।