लैफ्ट हैंडर डे आज: कभी टोकता था परिवार, अब यही बनी पहचान

By: Deepesh Tiwari

Published On:
Aug, 13 2019 11:22 AM IST

  • लैफ्ट हैंडर left handers day व्यक्तियों में होती है कुछ खास बात...

भोपाल। कभी लेफ्ट हैंडर left handers होना असहज माना जाता था, लेकिन अब धारणा बदली है। ऐसे व्यक्ति में अक्सर खास बात होती है। जिन बच्चों को लेफ्ट हैंड के उपयोग पर परिवार वाले टोकते थे, उन्हीं ने कुछ अलग कर दिखाया। 13 अगस्त को लेफ्ट हैंडर्स डे left handers day पर पत्रिका प्लस आपसे रू-ब-रू करा रहा है कुछ ऐसे लोगों से जिन्होंने पुलिस, चिकित्सा, खेल, साहित्य और थिएटर में परचम लहराएं हैं।

इसलिए मनाते हैं ये दिन?
आज है वल्र्ड लेफ्ट हैंडर्स डे left handers day यानि वो बेहद खास दिन, जो केवल दुनियां के उन 10 प्रतिशत लोगों के लिए मनाया जाता है जो राइट नहीं बल्कि अपना लेफ्ट हैंड यूज करते हैं। हालांकि भारतीय समाज में इन्हें बहुत अच्छी नजर से नहीं देखा जाता लेकिन अब इसकी परिभाषा बदलने लगी है।

13 अगस्त 1991 को ये दिन मनाने की शुरूआत हुई थी और इसके पीछे उद्देश्य था कि बाएं हाथ से काम करने वालों के मन से हीनभावना को दूर किया जा सके।

1991 में इसकी शुरुआत के पीछे उद्देश्य था कि बाएं हाथ से काम करने वालों के मन से हीनभावना को दूर किया जा सके। डॉ. राकेश मिश्रा के अनुसार यदि माता-पिता में से कोई एक लेफ्टी है तो इसका असर बच्चे में देखा जा सकता है।

समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों में लेफ्टी होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा गर्भधारण के दौरान जो महिलाएं तनाव में रहती हैं, उनके बच्चों के लेफ्टी होने की संभावना बढ़ जाती है।

subash atre

लेफ्ट हैंडर होने में है यूनिक फीलिंग

सागर पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में प्रशिक्षण में अधिकतर ऑफिसर दाएं हाथ से फायरिंग करते थे। हथियार की बनावट भी राइट हैंड के मुताबिक होती है। मुझे देख सबने कहा कि हथियार ठीक से पकड़ लो वही बड़ी बात है। मैंने न सिर्फ फायरिंग की बल्कि कॉम्पीटिशन भी जीत गया। लेफ्ट हैंडर होना अपने आप में हमेशा अलग फीलिंग देता है। मेरी बेटी, मेरे दो भाई और उनके बच्चे भी लेफ्टी हैं।
- सुभाष अत्रे, रिटायर्ड प्रमुख सचिव, गृह

preeti yadav

लेफ्ट हैंड से पाई सफलता

मैं क्रिकेट की आलराउंडर प्लेयर हूं। लेफ्ट हैंड बॉलर को खेलना राइट हैंडर बेट्समैन के लिए आसान नहीं होता। लेफ्ट ऑर्म ऑफ स्पिनर होने से मैँ बल्लेबाजों को खूब छकाती हूं। मुझे राइट और लेफ्ट दोनों तरह के गेंदबाजों की स्विंग होती गेंदों का सामना करने में आसानी होती है। बचपन में जब लेफ्ट हैंड से काम करती थी तो घरवाले मुझे टोकते थे, जबकि यही मेरी सफलता का आधार बना।
- प्रीति यादव, जोनल महिला क्रिकेटर

palak paliwal

सर्जरी इंस्ट्रूमेंट भी अलग

बचपन में पूजा लेफ्ट हैंड से करती तो परिवार वाले टोकते थे। सर्जरी के लिए जो इंस्ट्रूमेंट आते हैं वे राइट हैंडर के हिसाब से डिजाइन किए जाते हैं। इस कारण शुरुआत में थोड़ी परेशानी होती थी। मुझे टांके लगाते या ऑपरेशन करते समय दिमाग में मिरर इमेज बनानी पड़ती थी। पेशेंट की जब मैं लेफ्ट से सर्जरी करती हूं तो एक बार तो वे भी चौंक जाते हैं।
- डॉ. पलक पालीवॉल, सर्जन

aditi dubey

एग्जाम में होती थी परेशानी

बोर्ड परीक्षा में पास बैठा राइट हैंडर था, तो लिखते समय हाथ टकराता था, जिससे वह नाराज हो जाता। तब मुझे एहसास हुआ कि मुझे राइट हैंड से भी प्रैक्टिस करना चाहिए। मैंने दोनों हाथों से लिखने की प्रेक्टिस की।
- अदिति दुबे, मेकअप आर्टिस्ट

 

8प्रतिशत होते हैं लेफ्ट हैंडर

दुनिया में आठ प्रतिशत लोग ही लेफ्ट हैंडर हैं। ऐसे लोग ज्ञान, कला, स्पोट्र्स, इंजीनियरिंग जैसे क्षेत्र में कामयाब होते हैं। ये जिस क्षेत्र में होते हैं, अपनी अलग छाप छोड़ते हैं।
- पंडित विष्णु राजौरिया

बेहद खास हैं लेफ्टी...
साइंटिस्ट मानते हैं कि यदि माता-पिता में से कोई एक लेफ्टी है तो इसका असर बच्चे में देखा जा सकता है। समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों में लेफ्टी होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा गर्भधारण के दौरान जो माएं अत्यधिक तनाव में रहती हैं उनके बच्चों के लेफ्टी होने की संभावना बढ़ जाती है। यह केवल मिथक है कि हेफ्ट हैंडर्स का स्वास्थ्य खराब रहता है या वे अशुभ माने जाते हैं। आइए जानते हैं क्यों खास हैं लेफ्टी...

० टवींस में एक लेफ्ट हैंडर होने की संभावना होती है। जो लेफ्टी होते हैं। उनमें हकलाने की दर सबसे ज्यादा होती है।

० लेफ्ट हैंडर्स माइंड से तेज होते हैं। लेफ्टी लोग टेनिस, बेसबॉल, स्विमिंग और फेंसिंग जैसे गेम में माहिर होते हैं।

० अमेरिका के अपोलो मिशन पर जाने वाले हर 4 अतंरिक्ष यात्रियों में से एक लेफ्ट हैंडर था। उनमें इमेजिनेशन पॉवर अधिक होती है।

० लेफ्ट हैंडर लोग, जिनके दिमाग का दाहिना भाग अधिक सक्रिय होता है, इस वजह से वे अधिक क्रिएटिव और डिबेट एक्सपर्ट होते हैं।

० रिसर्च के अनुसार म्यूजिक और मैथ में उनका मन अधिक लगता है और वे अच्छा प्रदर्शन देते हैं। रिसर्च के अनुसार लेफ्टीज लोग खेलों में अच्छा करते है। उन्हें नेमफेम भी मिलता है।

० ठंड के समय नवंबर से जनवरी के बीच जन्म लेने वाले बच्चों के लेफ्टी (बायें हाथ से काम करने वाले) होने की संभावना अधिक रहती है। एक रिसर्च में यह दावा किया गया है।

 

ये रहे वल्र्ड फेमस लेफ्टी
महात्मा गांधी, सिंकदर महान, हैंस क्रिश्चियन एंडरसन, बिस्मार्क, नेपोलियन बोनापार्ट, जॉर्ज बुश सीनियर, जूलियस सीजर, लुइस कैरोल, चार्ली चैप्लिन, विंस्टन चर्चिल, बिल क्लिंटन, लियोनार्डो द विंची, अल्बर्ट आइंस्टीन, निकोल किडमैन, गैरी सोबर्स, ब्रायन लारा, सौरव गांगुली, वसीम अकरम, जिमी कोनर्स, टाम क्रूज, सिल्वेस्टर स्टेलोन, बीथोवन, एच जी वेल्स, बराक ओबामा और सचिन तेंदूलकर और अमिताभ बच्चन है शामिल।

Published On:
Aug, 13 2019 11:22 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।