400 से अधिक अवैध दुकानें, 200 से अधिक वाहन बाजार के अंदर

By: Ram kailash napit

Published On:
Aug, 13 2019 04:04 AM IST

  • ये कैसा नो-व्हीकल, नो-हॉकर्स जोन: 13 साल में कवायद कर लाखों खर्च, नतीजा सिफर

भोपाल. जनता की सुविधा के लिए नो-हॉकर्स, नो-व्हीकल जोन घोषित न्यू मार्केट में 400 से अधिक अवैध दुकानें और 200 से अधिक वाहन हमेशा परेशान करते हैं। इन पर कार्रवाई के लिए नगर निगम का अमला पहुंचता है तो उसे डरा-धमका कर भगा दिया जाता है। त्योहारों में स्थिति और खराब हो जाती है। ऐसे में शहरवासी निगम प्रशासन से एक ही सवाल पूछते रहे हैं ये कैसा नो हॉकर्स, नो व्हीकल जोन है?
न्यू मार्केट में अभी लोगों के चलने के रास्तों, फुटपाथ, पार्किंग, स्थायी दुकानों के ओटले और यहां तक कि मंदिर के गेट तक पर कब्जे हैं। व्यवसायी निगम प्रशासन को लगातार फोन कर रहे हैं। कार्रवाई करें, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है। 400 से 600 वर्गफीट तक की लंबी चौड़ी दुकानें लगाकर न्यू मार्केट को अव्यवस्थित कर दिया है। इन दुकानदारों के 100 से अधिक वाहन भी बाजार के भीतर ही हंै। हालत यह है कि चौक बाजार की तरह न्यू मार्केट में भी लोग खरीदी के लिए आने से पहले सौ बार सोचते हैं।

20 बैठकें और 70 कार्रवाई, लेकिन...
जून 2018 में पीएम द्वारा न्यू मार्केट मल्टीलेवल पार्किंग के उद्घाटन के बाद से न्यू मार्केट को नो-हॉकर्स, नो-व्हीकल जोन बनाने की कवायद जारी है। कलेक्टर, निगमायुक्त ने 20 बैठकें की। बाजार में 70 कार्रवाई की गईं। प्रशासन की सख्ती को राजनीतिक दबाव से बेअसर कर दिया जाता है। ऐसे में नतीजा कुछ नहीं निकलता।

 

अवैध दुकान वाले प्रशासन पर हावी
न्यू मार्केट में नो व्हीकल, नो हॉकर्स व्यवस्था लागू करने 13 साल कोशिश हो रही है। 2006 में इसे नो व्हीकल, नो हॉकर्स जोन घोषित किया था। एक साल से जिला और निगम प्रशासन के अफसर सक्रिय हुए। लोगों को लग रहा था कि अब न्यू मार्केट में खरीदारी सुकूनभरी रहेगी, लेकिन इस बार भी प्रशासन कुछ नहीं कर पाया। यहां जमे इन अस्थायी और अवैध दुकानदारों की इतनी हिम्मत कि रविवार को कार्रवाई करने पहुंची निगम प्रशासन की टीम से विवाद किया। उसे बिना पुख्ता कार्रवाई के लौटना पड़ा।

महिलाओं से छेड़छाड़ तो व्यवसायियों से मारपीट
अवैध दुकानों की वजह से महिलाओं से छेड़छाड़ की घटनाएं बढ़ रही हंै। स्थायी दुकानों के सामने रास्ते पर अवैध हॉकर्स से स्थायी दुकानदार के बीच झगड़ा और मारपीट की घटनाएं आम हैं।

 


पीली पट्टी से भी नहीं रुके व्यापारी
व्यापारियों की दुकानों के आगे पीली पट्टी बनाई, हद में रहने का कहा गया, लेकिन पालन नहीं हो रहा
वाहनों को बाजार में लाने की मनाही, मल्टीलेवल में रखने के निर्देश, लेकिन एक समय में 200 से अधिक वाहन रहते हैं

बाजार के भीतर अवैध हॉकर्स को पूरी तरह इंकार, लेकिन यहां 400 से अधिक हॉकर्स बैठ गए
स्मार्ट सिटी के माध्यम से यहां लद्दाख के बाजारों की तर्ज पर लाइन विकसित करने का दावा था, एक गली के बाद वह व्यवस्था फेल कर दी गई।


न्यू मार्केट नो-हॉकर्स, नो-व्हीकल जोन है। त्योहारी समय में लगने वाली अस्थायी दुकानों को सीमित रखा जा रहा है। लगातार कार्रवाई से इसे पुख्ता तरीके से लागू किया जाएगा।
कमल सोलंकी, अपर आयुक्त, नगर निगम
बाजार को नो हॉकर्स जोन बनाना चाहिए। हमने प्रशासन से कार्रवाई के लिए कहा है। अब देखते हैं आगे क्या करेंगे।
सतीश गंगराडे, अध्यक्ष न्यू मार्केट व्यापारी एसोसिएशन

Published On:
Aug, 13 2019 04:04 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।