जेटली के 'ऑफ रिकॉर्ड ब्रीफ्रिंग' पर उमा ने उठाए थे सवाल, जब बीमार पड़ीं तो Arun Jaitley ने उठाया था देखभाल का खर्च

By: Muneshwar Kumar

Updated On: 24 Aug 2019, 07:01:43 PM IST

  • जानिए, अरुण जेटली और उमा भारती के बीच हुए विवाद की बात

भोपाल. पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली अब हमारे बीच नहीं हैं। दिल्ली एम्स में शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस लीं। लेकिन जेटली जुड़े किस्सों को लोग याद कर रहे हैं। उनकी दरियादिली के भी कई किस्से हैं। कैसे जेटली दुश्मनी निभाने वालों को अपना दोस्त बना लेते थे। ऐसा ही एक किस्सा मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और उमा भारती से जुड़ा हुआ है।

 

बताया जाता है कि अरुण जेटली खाली वक्त में संसद के सेंट्रल हॉल में पत्रकार मित्रों के साथ 'ऑफ रिकॉर्ड ब्रीफ्रिंग' करते थे। इसमें देश-दुनिया की तमाम मुद्दों पर गॉशिप होती थी। तरह-तरह की चर्चाएं होती थीं। कई पुराने पत्रकार बताते हैं कि जेटली जी के तीन बजे की 'ऑफ रिकॉर्ड ब्रीफ्रिंग' के लिए पत्रकार भी उत्साहित रहते थे। इस ब्रीफिंग में नेताओं की स्थिति पर भी चर्चा होती थी। जेटली मीडिया फ्रेंडली भी थे।

pm narendra modi, arun jaitley

 

'ऑफ रिकॉर्ड ब्रीफ्रिंग' पर ही उमा ने उठाए सवाल
मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री रहीं उमा भारती अरुण जेटली पर सवाल उठाई थीं। दरअसल, 2004 में अटल जी की सरकार जाने के बाद लालकृष्ण आडवाणी बीजेपी के अध्यक्ष थे। उमा भारती भी उस टीम की सदस्य थीं। इसी दौरान उमा भारती ने अरुण जेटली पर सनसनीखेज आरोप लगाया। उमा भारती ने उस वक्त कहा था कि जेटली 'ऑफ रिकॉर्ड ब्रीफ्रिंग' कर सबकी कमियों की स्टोरी मीडिया में छपवाते हैं। इसके बाद ही लालकृष्ण आडवाणी द्वारा मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ की गई। इसका भी उमा ने विरोध किया।

तीन महीने में BJP के 10 वरिष्ठ नेता बन सकते हैं राज्यपाल, 10 राज्यों में खत्म हो रहा कार्यकाल


पार्टी से होना पड़ा था बाहर
उमा भारती के बदले सुर बीजेपी में खलबली मच गई। तत्कालीन बीजेपी अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी ने इसे अनुशासनहीनता का मामला मानते हुए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। हालांकि 2005 में उनकी बर्खास्तगी हट गई और संसदीय बोर्ड में जगह मिल गई। उमा भारती भी अलग होकर अपनी अलग पार्टी बना लीं। हालांकि 2011 में वह फिर से बीजेपी में वापस लौट गईं।

वो नेता जिसकी हर जिद को पूरा करते थे अटल बिहारी वाजपेयी, बदले में धन्यवाद की जगह सुनने को मिलती थीं कड़वी बातें

 

देखभाल का खर्च जेटली ने उठाया
हालांकि इन आरोपों के बावजूद अरुण जेटली के दिल में उमा के लिए कोई नफरत नहीं था। जेटली का यह एक अच्छे इंसान का मानवीय गुण था कि 2008 में उमा के बीमार पड़ने पर उनकी पूरी देखभाल का खर्चा उन्होंने खुद उठाया। उनके निधन पर उमा भारती ने ट्वीट किया कि अरुण जेटली जी का निधन मेरी निजी क्षति है, क्योंकि मेरे बड़े भाई अब मुझे छोड़कर चले गए। मैं इस गहरे दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ हूं।

 

गौरतलब है कि अरुण जेटली कैंसर से पीड़ित थे। पिछले कई दिनों से एम्स में इलाजरत थे। शनिवार को उनका निधन हो गया। जेटली ने अस्वस्थ होने की वजह से ही इस बार मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं हुए। लेकिन वह सोशल मीडिया पर हमेशा एक्टिव रहते थे और अपनी राय रखते थे।

Updated On:
24 Aug 2019, 07:01:42 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।