Rahat Indori: दो मज़हबों में राहत का संदेश देती हैं इंदौरी की बातें

By: Manish Geete

Updated On:
24 Aug 2019, 05:33:03 PM IST

  • दुनियाभर में जब मजहब पर बात होती है, तो सदभाव की भी बात जरूर होती है। देश के जाने-माने शायर, उर्दू के कवि और फिल्मों के गीतकार राहत इंदौरी की कई बातें लोगों को प्रेरणा देती हैं।


भोपाल। दुनियाभर में जब मजहब ( Religion ) पर बात होती है, तो सद्भाव ( Harmony ) की भी बात जरूर होती है। देश के जाने-माने शायर, उर्दू के कवि और फिल्मों के गीतकार राहत इंदौरी ( dr rahat indori ) की कई बातें लोगों को प्रेरणा देती हैं। शनिवार को उनके नए ट्वीट ( tweet ) ने दोनों ही मजहबों को प्रेम, सदभाव का संदेश दिया है। इसके बाद बड़ी संख्या में लोग राहत साहब की सराहना कर रहे हैं और कई लोग उनके विचारों को सैल्यूट कर रहे हैं।

 

 

अक्सर गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की बात करने वाले राहत इंदौरी का यह संदेश सुखद अहसास देता है। उन्होंने यह संदेश अपनी पोती के जरिए दिया है। उनकी पोती का नाम मीरा है और कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मीरा अपने स्कूल में राधा बनकर गई थी। डॉ. राहत साहब ने यह बात ट्वीट करके बताई है। खास बात यह है कि यह नाम 'मीरा' कृष्ण भक्ति का संदेश देता है। जो प्रेम और स्नेह का प्रतीक तो है ही, यह नाम कृष्ण भक्ति की पराकाष्ठा भी माना जाता है।

 

 

ट्वीट पर शेयर किया यह संदेश
राहत इंदौरी ने शनिवार को अपने ट्वीटर पर पोती की कुछ तस्वीरें शेयर कर लिखा है कि ये हमारी पोती हैं। मीरा इनका नाम है। कल अपने स्कूल में राधा बनकर गई थीं। डॉ. राहत का यह संदेश महजबों के तनाव के बीच सुखद अहसास देता है।

 

कई लोगों ने किया डॉ. राहत इंदौरी को सलाम
-गीता राजपूत ट्वीटर पर राहत इंदौरी की सराहना करते हुए अपनी बेटी की भी तस्वीर शेयर करती हैं, वे लिखती हैं कि हमारी बेटी ईद मनाते हुए स्कूल में।
-कंवलदीप कौर लिखती हैं कि जिन बच्चों के अभिभावक आप जैसे हैं, वे कभी भटकेंगे नहीं।
-निलेश लिखते हैं कि आप जैसे बुद्धिजीवी हैं तो भारत की अखंडता राहत की सांस ले सकती है।
-रामेश्वर तिवारी नाम के ट्वीटर हैंडल से लिखा गया है कि मुहब्बत की इसी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं।
-घनश्याम चौरसिया (निशांत) लिखते हैं कि बधाई साहब, मकसद इंसानियत बनी रहे। धर्म के इतर। त्योहार हमें जोड़ते हैं धर्म हमें तोड़ते हैं। बधाई एक बार और।
-अभिषेक ट्वीटर पर लिखते है कि अद्भुत जाती पाती से परे धर्म से परे आपकी सोच को सलाम आप एक सच्चे भारतीय हैं।
-पवन भी राहत इंदौरी को लिखते हैं कि ये मीरा/राधा उतनी ही ख़ूबसूरत है, जितना हमारा मुल्क...

 

यह भी है खूब
इससे कुछ समय पहले ही डॉ. राहत ने हाशिम रजा जलालपुरी को टैग करते हुए जन्माष्टमी पर लिखा है...

मीरा फरमाती हैं...
ऐ सखी! भाता नहीं दूजे का हुस्न
जब से देखा नन्द के बेटे का हुस्न

सांवरी सूरत है इतनी दिल रुबा
उसकी खातिर छोड़ दी मैंने हया

ऐ सखी! अब दिल में मेरे बस गया
नन्द का बांका, सजीला, लाडला



इन फिल्मों के गीत लिखे
राहत इंदौरी ने बालीवुड फिल्म मिशन कश्मीर, याराना, मिनाक्षी, मुन्ना भाई एमबीबीएस, इश्क, नाराज, मर्डर, खुद्दार सहित कई फिल्मों के गीत लिखे हैं।

Updated On:
24 Aug 2019, 05:33:03 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।