जियो मैपिंग से तय होना था शाहपुरा तालाब का नया कैचमेंट, दबा दी रिपोर्ट

By: Pushpam Kumar

Updated On:
22 Jul 2018, 07:52:20 AM IST

  • बीएमसी, टीएनसीपी और पीसीबी जिम्मेदार, अतिक्रमण से तालाब सिकुड़ रहा

भोपाल. बढ़ती आबादी, अवैध निर्माणों और कैचमेंट में अतिक्रमण के चलते शाहपुरा तालाब सिकुड़ता जा रहा है। वर्ष 2005 के मास्टर प्लान मसौदे में 8.29 वर्ग किलोमीटर एरिया में फैला ये तालाब वर्तमान में सिकुड़कर 5.75 वर्ग किलोमीटर का रह गया है। दिनोंदिन खराब होते हालात देख एनजीटी ने पिछले साल नगर निगम को कारगर कदम उठाने के निर्देश दिए थे।

तत्कालीन निगमायुक्त छवि भारद्वाज ने तालाब का कैचमेंट और एफटीएल समझाने के लिए जियोग्राफिक मैपिंग रिपोर्ट तैयार कर एनजीटी में पेश की। पर्यावरणविद सुभाष सी पांडे की याचिका पर हुई इस कवायद पर आगे की कार्रवाई से पहले एनजीटी जज दलीप ङ्क्षसह का तबादला हो गया।

रिपोर्ट फाइलों में दबा दी गई, क्योंकि इसके आधार पर निर्माणों को तोड़ा जाता या फिर इनकी कंपाउंडिंग कराई जाती। इससे पहले 2 जुलाई 2013 को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में याचिका के जरिए पांडे ने वॉटर बॉडी कंजर्वेशन की मांग की थी। अब तक निगम एवं प्रदूषण नियत्रंण बोर्ड की तरफ से अतिक्रमणों पर स्थिति स्पष्ट नहीं
की गई है।

प्रदूषित करने वालों को नोटिस तक नहीं : राजधानी के प्रमुख जल स्रोतों में होने के बावजूद शाहपुरा तालाब के विकास और संरक्षण के लिए नगर निगम ने इंतजाम नहीं किए हैं। तालाब में मिलने वाले अनट्रीटेड सीवेज पर कभी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से होटल संचालकों और डेवलपर्स को नोटिस जारी नहीं किए गए। एनजीटी में याचिका के जवाब में दोनों एजेंसियों के जिम्मेदारों ने यही उपाय बताया कि निगम यहां एसटीपी और वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनवा रहा है।

तालाब में कॉलोनियां सड़कों पर भरा पानी : शाहपुरा तालाब के कैचमेंट में निर्माण का असर बारिश में नजर आता है। चूनाभट्टी की ओर से तालाब के अंदर तक कॉलोनियां बन गई हैं। ऐसे में बारिश का पानी प्रशासन अकादमी की तरफ मौजूद ढलान की ओर बढ़ता है। यहां मुख्य मार्ग पर चार फीट तक भर जाता है। इस साल भी बारिश में इस रोड पर पानी भर गया था। रास्ता बंद हो जाने के कारण लोगों को भारी परेशानी हुई।

शाहपुरा तालाब की दुर्दशा के लिए बीएमसी, टीएनसीपी और पीसीबी जिम्मेदार हैं। एनजीटी ने इनसे जवाब देने कहा है।
सुभाष सी पांडे, याचिकाकर्ता

मास्टर प्लान में शाहपुरा तालाब के संरक्षण की गाइड लाइन पहले से है। 2005 के मसौदे में संशोधन के लिए प्रस्ताव नहीं है।
एसके मुद्गल, संयुक्त संचालक, टीएनसीपी

Updated On:
22 Jul 2018, 07:52:20 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।