बीजेपी ने अगस्त महीने में ही खोएं तीन बड़े नेता, ये हैं तीनों का मध्यप्रदेश से कनेक्शन

By: Muneshwar Kumar

Updated On: 24 Aug 2019, 04:14:36 PM IST

  • तो क्या बीजेपी के लिए मनहूस है अगस्त

भोपाल. भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ( arun jaitley ) का निधन हो गया है. लेकिन सिर्फ जेटली ही नहीं बीजेपी ने इस महीने में तीन बड़े रत्न खोए हैं। इन तीनों का कनेक्शन मध्यप्रदेश से रहा है। अगस्त महीने में ही पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन हुआ। वह मध्यप्रदेश की विदिशा से सांसद रही हैं। उसके बाद मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर का निधन हो गया है।

 

अगस्त का महीना बीजेपी के लिए इस साल मनहूस साबित हुआ है। पार्टी ने तीन कद्दावर नेताओं को खो दिया है। तीनों का कद्द इतना बड़ा था कि ये हमेशा पार्टी के लिए महत्वपूर्ण रहे हैं। सबसे पहले बात करते हैं बीजेपी की कद्दावर नेत्री रहीं सुषमा स्वराज की। सुषमा अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी मंत्री थीं। उसके बाद मोदी सरकार वन में भी वह विदेश मंत्रालय जैसे अहम मंत्रालय को संभाल रही थीं।

Sushma Swaraj: इन एक्ट्रेसेज ने कहा, विचारों से सहमत नहीं, पर सम्मान करते हैं

 

6 अगस्त 2019 को हुआ निधन
सुषमा स्वराज का निधन इसी साल 6 अगस्त 2019 को हुआ है। सुषमा मध्यप्रदेश की विदिशा से सांसद थीं। 2019 के चुनाव में उन्होंने स्वास्थ्य कारणों से चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया। साथ ही मोदी सरकार की मंत्रिमंडल में भी शामिल नहीं हुईं। सुषमा स्वराज का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था। उसके बाद से वह सरकारी कार्यों को संभाल जरूर लिया था लेकिन राजनीतिक गतिविधियों में कम ही हिस्सा लिया। लेकिन खुद को सोशल मीडिया पर जरूर एक्टिव रखती थीं। सुषमा का मध्यप्रदेश से विशेष लगाव रहा है। कई मौकों पर यहां जरूरतमंदों को वह व्यक्तिरूप से भी मदद की।

Babulal Gaur

 

पूर्व सीएम बाबूलाल गौर का भी हुआ निधन
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे बाबूलाल गौर का भी इसी अगस्त महीने में निधन हो गया। बाबूलाल गौर भी मध्यप्रदेश के कद्दावर नेताओं में से एक थे। उनका निधन लंबी बीमारी के बाद 21 अगस्त 2019 को हुआ। तबियत खराब होने के बाद उन्हें भोपाल के नर्मदा अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वहां उन्होंने अंतिम सांस ली। बाबूलाल गौर जनसंघ के जमाने से भारतीय जनता पार्टी के लिए काम रहे थे। एक कार्यकर्ता के रूप में करियर शुरू कर उन्होंने सीएम तक सफर तय किया।

madhya pradesh former cm babulal gaur passed away today


24 अगस्त को हुआ जेटली का निधन
बाबूलाल गौर के निधन के पांच दिन बाद यानी कि अगस्त महीने के ही 24 तारीख को बीजेपी ने एक और रत्न खो दिया है। जेटली का मध्यप्रदेश से भी लगाव रहा है। 2002-2003 में अरुण जेटली मध्यप्रदेश बीजेपी के प्रभारी भी थे। इसके साथ ही वह आखिरी बार मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी का मेनिफेस्टो जारी करने मध्यप्रदेश आए थे। हालांकि मध्यप्रदेश बीजेपी में जब-जब राजनैतिक संकट उत्पन्न हुई, इससे उबारने में जेटली की भूमिका अहम रही है।

 

गौरतलब है कि मनहूस अगस्त की चर्चाएं सोशल मीडिया पर हैं। क्योंकि इसी महीने में पार्टी ने अपने तीन महत्वपूर्ण नेताओं को बीमारी की वजह से खो दिया है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन भी पिछले साल अगस्त के महीने में ही हुआ था।

Updated On:
24 Aug 2019, 01:54:58 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।