बाबूलाल गौर को जेटली ने ही फोन कर कहा था आपको छोड़नी होगी सीएम पद की कुर्सी, पार्टी ने लिया है फैसला

By: Muneshwar Kumar

Updated On:
24 Aug 2019, 02:44:42 PM IST

  • पार्टी के फैसला को सुनाने के लिए अरुण जेटली ने बाबूलाल गौर को किया था फोन

भोपाल. मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर ( Babulal Gaur ) के निधन के पांच दिन बाद पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ( Arun Jaitley ) का भी निधन हो गया है। अरुण जेटली का मध्यप्रदेश की राजनीति में कोई सक्रियता नहीं रही है। लेकिन अहम मौकों पर अरुण जेटली मध्यप्रदेश के लिए संकटमोचक साबित हुए हैं। अरुण जेटली के एक फोन के बाद मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर को सीएम पद की कुर्सी छोड़नी पड़ी थी।

 

दरअसल, मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर की ताजपोशी उमा भारती के पद छोड़ने के बाद हुआ था। कर्नाटक के एक मामले में उमा भारती के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो गया है। उसके बाद हुआ कि उमा की उत्तराधिकारी प्रदेश में कौन होंगी। उसके बाद उमा भारती को लगा कि बाबूलाल गौर बेहतर विकल्प हो सकते हैं कि क्योंकि पूरे प्रदेश में उनका कोई जनाधार नहीं हैं। जब मैं उस मामले में बरी हो जाऊंगी उसके बाद फिर से सीएम पद की कुर्सी पर काबिज हो जाऊंगा।

babulal gaur

 

उमा भारती ने उन्होंने गंगाजल हाथ में देकर कसम खिलाई थीं कि वह जब कहेंगी तो सीएम पद की कुर्सी छोड़नी होगी। लेकिन उमा जब लौटीं तो गौर ने कुर्सी नहीं छोड़ी। उसके बाद उमा भारती बाबूलाल गौर से नाराज भी हो गईं। दोनों के बीच तल्खियां बनी रहीं।

babulal gaur

 

जेटली ने कहा कि छोड़नी होगी कुर्सी
29 नवंबर 2005 को बाबूलाल गौर को कुछ विवादों में नाम सामने आने के बाद उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। अरुण जेटली ने उन्हें इस्तीफे से पहले फोन कर बता दिया था कि पार्टी नेतृत्व ने फैसला लिया है कि आपको सीएम पद की कुर्सी छोड़नी होगी। साथ ही उन्होंने यह बता भी दिया था कि आपकी जगह शिवराज सिंह लेंगे। पार्टी ने यह फैसला कर लिया है।

Arun jaitley

 

विधायकों की रायशुमारी जरूरी थी
पार्टी ने फैसला ले लिया था कि मध्यप्रदेश के अगले सीएम शिवराज सिंह चौहान होंगे। गौर के इस्तीफे के बाद विधायकों से रायशुमारी के लिए अरुण जेटली, प्रमोद महाजन और राजनाथ सिंह भोपाल पहुंचे। पार्टी में गुटबाजी की वजह से बगावत की आग धधक रही थी। कई गुट शिवराज को आसानी से स्वीकार करने को तैयार नहीं थे। जेटली ने सभी को मनाया और शिवराज के नाम पर मुहर लगवाई। उसके बाद 4 दिसंबर 2005 को शिवराज सिंह चौहान की ताजपोशी हुई। वहीं, बाद में बाबूलाल गौर शिवराज सिंह चौहान कैबिनेट में मंत्री भी बने।

Updated On:
24 Aug 2019, 02:44:42 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।