सिलेबस पूरा करने के लिए विद्यार्थियों को मिलेंगे महज 100 दिन

By: Sumeet Pandey

Updated On:
13 Aug 2019, 06:05:09 AM IST

  • सीएलसी में सितम्बर तक होंगे प्रवेश, इस सत्र को एकेडमिक कैलेंडर के मुताबिक चलाने में होगी मुश्किल

भोपाल. उच्च शिक्षा विभाग की ओर से हर साल एकेडमिक कैलेंडर तैयार किया जाता है लेकिन उसके अनुसार सत्र संचालन संभव नहीं हो पाता है। एक जुलाई से अकादमिक सत्र 2019-20 शुरू हो चुका है लेकिन करीब डेढ़ माह बीतने के बाद प्रवेश प्रक्रिया खत्म नहीं हो पाई है। एकेडमिक कैलेंडर के अनुसार यूजी की कॉलेज लेवल काउंसलिंग आठ अगस्त व पीजी की 14 अगस्त तक समाप्त हो जानी थी लेकिन अब यूजी में 27 अगस्त व पीजी में सितम्बर प्रथम सप्ताह तक प्रवेश प्रक्रिया जारी रहेगी। ऐसे में जहां नव प्रवेशित विद्यार्थियों का कोर्स पिछड़ेगा वहीं लंबी प्रवेश प्रक्रिया के चलते परीक्षा, रिजल्ट समेत अन्य गतिविधियां भी प्रभावित होंगी।

एकेडमिक कैलेंडर के अनुसार एक जुलाई से 31 मार्च तक 275 दिन की अवधि में महज 188 शैक्षणिक कार्य दिवस हैं, यानी इस अवधि में ही क्लासेज संचालित होंगी लेकिन लंबी प्रवेश प्रक्रिया के चलते यह शैक्षणिक सत्र महज 130 दिन ही चलेगा। वहीं सितम्बर के अंत में छात्रसंघ चुनाव भी प्रस्तावित है, वचन पत्र के मुताबिक अगर शासन प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराता है तो 20 से 30 दिन चुनावों में बीत जाएंगे। ऐसे में विद्यार्थियों के पास सिलेबस पूरा करने के लिए महज 100 दिन का ही वक्त मिलेगा। ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत अंडर ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन की प्रक्रिया 10 जून से शुरू हुई थी। अब तक 2 लाख 38 हजार 668 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है, जबकि 4 लाख 99 हजार 650 सीटों को सीएलसी के जरिए भरने की कोशिश जारी है।

 

ऑनलाइन प्रणाली से होती है प्रवेश प्रक्रिया में देरी

सिविल सर्विसेज क्लब के फाउंडर व शिक्षाविद् लक्ष्मी शरण मिश्रा महाविद्यालयों में एनुअल पैटर्न को एक सही कदम मानते हैं लेकिन यूजी-पीजी में प्रवेश प्रणाली को ऑनलाइन करने का एक गलत निर्णय बताते हैं। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन प्रणाली के चलते प्रवेश प्रक्रिया में देरी होती है। उच्च शिक्षा विभाग को 30 जून तक प्रवेश प्रक्रिया समाप्त कर देनी चाहिए, इसके लिए कॉलेज स्तर पर ही एडमिशन की प्रणाली लागू करनी चाहिए। ताकि कॉलेजों में कटऑफ के आधार पर तय समय में प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो जाए। साथ ही एक जुलाई से अकादमिक सत्र शुरू होना चाहिए, ताकि परीक्षा व रिजल्ट सही समय पर जारी किया जा सके।

अभी यह है सीएलसी की स्थिति
यूजी में सीएलसी की प्रक्रिया 5 अगस्त से शुरू हुई थी, इसमें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 13 अगस्त तक होंगे। सत्यापन की प्रक्रिया 14 अगस्त तक चलेगी। कॉलेजों में लिस्ट 19 अगस्त को जारी होगी और इन कॉलेजों में 27 अगस्त तक एडमिशन लेना होगा। वहीं पीजी में एडमिशन के लिए 18 अगस्त तक रजिस्ट्रेशन, 19 तक सत्यापन होगा वहीं सीट की लिस्ट 21 अगस्त को जारी होगी।

 

क्या कहते हैं प्रिंसिपल

एक जुलाई से सेशन शुरू हो चुका है, नए बच्चों की भी क्लासेज जारी हैं। अब जिन बच्चों के एडमिशन देरी से हो रहे हैं उनके लिए एक्सट्रा क्लास की व्यवस्था कराई जाएगी ताकि वे भी सिलेबस पूरा कर सकें।

मंजुला शर्मा, प्रिंसिपल, नूतन कॉलेज

द्वितीय व तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों की कक्षाएं तो एक जुलाई से शुरू हो चुकी हैं। यह सही है कि लंबी प्रवेश प्रक्रिया के कारण प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को सेशन थोड़ा देरी से शुरू हुआ है और प्रवेश प्रक्रिया अभी भी जारी है। चूंकि इस वर्ष से एनुअल पैटर्न लागू हो गया है तो विद्यार्थियों को बचा हुआ कोर्स पूरा करने का वक्त मिल जाएगा।
डॉ. चंद्रशेखर गोस्वामी, प्रिंसिपल, एमएलबी कॉलेज

Updated On:
13 Aug 2019, 06:05:09 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।