'माफी ने बिगाड़े हालात, कर्ज देने में बैंकों ने खड़े किए हाथ

By: Suresh Jain

Updated On:
25 Aug 2019, 11:48:26 AM IST

  • सरकार से नहीं मिला पैसा, चुनावी वादों के शिकार सहकारी बैंक

भीलवाड़ा।
Farmer loan waiver scheme किसान कर्जमाफी योजना ने केंद्रीय सहकारी बैंकों की हालत बिगाड़ दी है। बैंक के पास किसानों को ऋण देने तक की राशि नहीं है। वहीं सरकार के एेलान के बावजूद समय पर ऋण नहीं मिलने से किसानों में रोष है। गत दिनों वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जिला कलक्टर ने संकेत दिए थे कि किसानों को ऋण नहीं मिला तो हालात बिगड़ सकते हंै। सरकार ने भीलवाड़ा सहकारी बैंक को मदद का निर्णय लिया लेकिन राशि अभी मिली नहीं है।

https://www.patrika.com/jaipur-news/kisan-karj-mafi-kisan-karj-mafi-in-rajasthan-farm-loan-waiver-4821187/

Farmer loan waiver scheme विधानसभा चुनाव से ठीक पहले मई में वसुंधरा सरकार ने किसानों का 50 हजार तक ऋण माफ किया था। कांग्रेस ने चुनाव में कर्जमाफी का वादा किया। सरकार बनने पर लोकसभा चुनाव से सहकारी बैंकों से लिया 2 लाख रुपए तक कर्ज माफ कर प्रमाण पत्र बांट दिए।

कांग्रेस सरकार बने 9 माह बीत गए लेकिन बैंक को कर्जमाफी का एक रुपया नहीं दिया। बैंक का खजाना खाली हो गया व किसानों को कर्ज नहीं मिल रहा है। सरकार के पास बैंकों को देने को बजट नहीं है। जुलाई, 2018 तक भीलवाड़ा की सहकारी बैंकों ने ३५० करोड़ का ऋण बांट दिया था। इस बार अगस्त बीतने को है, लेकिन अब तक ४२ हजार किसानों को १०१ करोड़ के ऋण वितरित किया।

सहकारिता विभाग के ऑनलाइन ऋण पोर्टल पर ७४८९४ किसानों ने पंजीयन कराया है। इसमें ६५,४६३ किसानों को ५१५.७४ करोड़ का ऋण स्वीकृत हुआ है, लेकिन वितरित ४२१६२ किसानों को मात्र १०१ करोड़ का ऋण वितरित किया। 2018 में एक लाख से अधिक किसानों को ३५० करोड़ रुपए का ऋण जुलाई तक ही बांट दिया था।

Updated On:
25 Aug 2019, 11:48:26 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।