एक-दूसरे को ताकत दिखाने पहुंचे थे दोनों पक्ष, तीसरे की गई जान

By: Rohit Sharma

Updated On:
25 Aug 2019, 04:04:12 AM IST

  • शहर में सारस पुलिस चौकी के पास शुक्रवार दोपहर दो पक्षों में हुए विवाद के दौरान फायरिंग में एक युवक की मौत के मामले में फरार तीन आरोपियों का दूसरे दिन शनिवार को कोई सुराग नहीं लगा।

भरतपुर. शहर में सारस पुलिस चौकी के पास शुक्रवार दोपहर दो पक्षों में हुए विवाद के दौरान फायरिंग में एक युवक की मौत के मामले में फरार तीन आरोपियों का दूसरे दिन शनिवार को कोई सुराग नहीं लगा। पुलिस ने आरोपियों की तलाश में उनके छिपने के ठिकानों पर दबिश दी लेकिन पता नहीं चला। उधर, पुलिस ने जिला आरबीएम अस्पताल में मृतक युवक देवराज गुर्जर का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करा शव परिजनों को सौंप दिया। वहीं, वारदात कर भागे आरोपियों में एमएसजे कॉलेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मानवेन्द्र समेत तीन आरोपियों को पुलिस ने किया है। आरोपियों को रविवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। घटना के संबंध में मृतक के भाई अतर सिंह ने रिपोर्ट ने आरोपियों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

 


गौरतलब रहे कि रूपवास निवासी संजू व उसके भाई सौरभ की जीजा के शराब के नशे में कुछ लोगों के वीडियो बनाने को लेकर रूपवास के ही रवि खटीक व अनुराग ठाकुर से झगड़ा चल रहा था। इनके बीच शुक्रवार सुबह फोन पर बहस हो गई और एक-दूसरे को देख लेेने की चुनौती दे डाली। जिस पर दोनों गुट सारस पुलिस चौकी के पास दोपहर में पहुंच गए। इसमें संजू के पास धौलपुर का बसेड़ी थाना क्षेत्र के गांव हिंगौटा निवासी देवराज गुर्जर व डीग निवासी उजागर चाहर भी था। दोनों पक्षों में बहस हो गई और गुत्थम-गुत्था के दौरान रवि खटीक के बुलाने पर आए वीरू नामक बदमाश ने 315 बोर से कट्टे से फायरिंग कर दी, जिसमें देवराज की मौत हो गई। मौके से भागे आरोपियों से पुलिस ने भरतपुर एमएसजे कॉलेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मावनेन्द्र जाट निवासी फतेहपुर उच्चैन, योगेश जाट निवासी सोगर कुम्हेर व आकाश गुर्जर निवासी बीनारायण गेट भरतपुर को धरदबोचा जबकि मुख्य आरोपी वीरू समेत अन्य जने भाग निकले। उधर, एएसपी डॉ.मूलसिंह राणा ने बताया कि आरोपियों की तलाश में दो टीम भेजी हैं। मृतक का पोस्टमार्टम करा शव सौंप दिया है। आरोपियों से पूछताछ जारी है, उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा।


मैं तो बुलाने पर पहुंचा था, मेरा कोई कसूर नहीं...

गिरफ्तार पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मानवेन्द्र ने कहा कि वारदात में उसका कोई रोल नहीं है। वह केवल बुलाने पर मौके पर पहुंचा था, जहां फायरिंग कर दी। जिसके बाद कार से आगरा रोड की तरफ चले गए। पुलिस के रोकने पर वह रुक गए थे। उसे नहीं पता था कि ऐसा कुछ होगा। बताया जा रहा है कि वारदात से पहले मानवेन्द्र को कार स्टार्ट रखने के लिए कहा था, फायरिंग करने के बाद ये लोग भाग निकले। पुलिस ने पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष की कार को भी जब्त किया है।


भाई ने दर्ज कराई रिपोर्ट

मथुरा गेट थाने में मृतक के भाई अतर सिंह ने दर्ज रिपोर्ट में बताया कि उसका भाई देवराज उर्फ उग्रसेन भरतपुर में रहकर कोचिंग कर रहा था। सारस चौराहे पर किराये के मकान में संजू मास्टर, उजागर सिंह व उसका भाई भी रहता था। संजू व उसके भाई की अन्य लड़कों से रंजिश थी। इसका बदला लेने संजू उसके भाई को चौराहे पर ले गया। यहां उजागर भी आ गया। यहां करीब 3 बजे एक सफेद रंग की कार व एक अन्य गाड़ी आई। इसमें मानवेन्द्र, योगेश, आकाश, वीरू उर्फ वीरपाल व सोनू समेत 2-3 युवक भी थे। आते ही संजू से झगड़ा करने लगे और कट्टे से फायर कर दिया, जिसमें उसके भाई की मौत हो गई। आरोपी कार व बाइक से बैठकर भाग निकले, जिसमे कुछ को पुलिस ने पकड़ लिया।

Updated On:
25 Aug 2019, 04:04:12 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।