सपना के डांस को हरी झण्डी, कामां कुश्ती-दंगल की स्वीकृति दाव पेच में फंसी

By: Rohit Sharma

Updated On: 11 Sep 2019, 11:37:31 AM IST

  • हरियाणा डांसर सपना चौधरी के कार्यक्रम को लेकर आखिरकार पुलिस महकमे की ओर से स्वीकृति जारी हो गई।

भरतपुर. हरियाणा डांसर सपना चौधरी के कार्यक्रम को लेकर आखिरकार पुलिस महकमे की ओर से स्वीकृति जारी हो गई। कार्यक्रम करा रही ईवेंट कंपनी की ओर से पुलिस सुरक्षा इतंजामों के लिए विभाग में करीब 5 लाख रुपए की राशि जमा कराई है। पुलिस की ओर से कार्यक्रम के इतंजाम में 100 पुलिस कर्मी व अधिकारी लगाए जाएंगे। इससे पहले पुलिस विभाग ने सुरक्षा कारणों को लेकर स्वीकृति देने से सिरे से खारिज कर दिया था। जिस पर ईवेंट कंपनी ने लोहागढ़ स्टेडियम ेमें कार्यक्रम कराने की बजाय यूआईटी ऑडिटोरियम में कराने का नए सिरे से प्रार्थना पत्र दिया। जिस पर मंथन के बाद पुलिस ने स्वीकृति जारी कर दी। उधर, डांसर चौधरी के कार्यक्रम को स्वीकृति देने पर कामां के लोगों में नाराजगी है। उनका कहना है कि ईवेंट कंपनी को स्वीकृति मिल सकती है तो कामां के कुश्ती-दंगल को सुरक्षा कारणों का हवाला देकर मंजूरी नहीं देने पर लोग अचरज जता रहे हैं। उधर, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि लोहागढ़ स्टेडियम में खुले में कार्यक्रम में सुरक्षा इतंजाम के लिहाज से सही नहीं था, जिस वजह से आपत्ति थी। ईवेंट कंपनी ने अब ऑडिटोरियम में कार्यक्रम रखा है, ये स्थान सुरक्षित है। कार्यक्रम करा रहे लोगों की ओर से सुरक्षा इतंजाम के लिए विभाग में राशि जमा कराई है। जिसके लिए उन्हें अतिरिक्त पुलिसकर्मी उपलब्ध कराए जाएंगे।


ट्रेफिक व पार्किंग व्यवस्था से पड़ सकता है जूझना

यूआईटी ऑडिटोरियम पुलिस अधीक्षक के कार्यालय के पास है और इसके आसपास घनी आबादी क्षेत्र है। कार्यक्रम के चलते स्थानीय लोगों को परेशानी होना तय है। साथ ही ट्रेफिक और पार्किंग व्यवस्था को लेकर भी पुलिस को परेशानी उठानी पड़ सकती है। एसपी कार्यालय के सामने से एमएसजे कॉलेज व अछनेरा और सर्किट हाउस सर्किल से सारस चौराहे की तरफ रास्ता जाता है। उधर, ऑडिटोरियम की दूसरी तरफ कृष्णानगर कॉलोनी व बीएसएनएल कार्यालय की तरफ रास्ता निकलता है। उधर, एएसपी डॉ.मूलसिंह राणा ने कहा कि डांसर के कार्यक्रम को स्वीकृति दी है। ईवेंट कंपनी ने सुरक्षा इतंजाम के लिए राशि जमा कराई है। खुले में कार्यक्रम को लेकर पुलिस की आपत्ति थी, ऑडिटोरियम में कार्यक्रम सुरक्षा इतंजाम के लिहाज से ज्यादा ठीक है। वहीं, कामां के सामाजिक कार्यकर्ता विजय मिश्रा ने कहा कि कामां का कुश्ती-दंगल ऐतिहासिक है और परम्परा से जुड़ा है। इसकी स्वीकृति के लिए पुलिस अधिकारियों से बात की है, उन्होंने आर्मी भर्ती के बाद का भरोसा दिया है। लेकिन हरियाणा के डांसर को स्वीकृति दे दी। जबकि पुलिस व प्रशासन पहले इसको खारिज कर दिया। अब स्वीकृति देना समझ से परे है।

Updated On:
11 Sep 2019, 11:37:30 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।