BHARATPUR NEWS : भरतपुर व अलवर समेत प्रदेश के सात जिलों में की जाएगी कुष्ठ रोगियों की खोज

By: Shyamveer Singh

Updated On:
19 Aug 2019, 05:01:00 AM IST

  • भरतपुर.संकोचवश बीमारी को छुपाने वाले, जागरूकता के अभाव में बीमारी की सही जानकारी नहीं मिल पाने व दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग भरतपुर व अलवर समेत प्रदेश के सात जिलों में कुष्ठ रोगी खोजी अभियान (Leprosy patient search Campaign) चलाने जा रहा है।

भरतपुर.संकोचवश बीमारी को छुपाने वाले, जागरूकता के अभाव में बीमारी की सही जानकारी नहीं मिल पाने व दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग भरतपुर व अलवर समेत प्रदेश के सात जिलों में कुष्ठ रोगी खोजी अभियान (Leprosy patient search Campaign) चलाने जा रहा है। इसके लिए विभाग ने पूरी तैयारियां कर ली हैं। यह अभियान 11 सितम्बर से 24 सितम्बर 2019 तक चलाया जाएगा। यह अभियान उन जिलों में संचालित किया जाएगा, जिनमें अभी भी कुष्ठ रोगी सामने आ रहे हैं।

 


इन जिलों में चलेगा अभियान
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कुष्ठ रोगी खोजी अभियान भरतपुर, अलवर, जयपुर, जोधपुर, कोटा, पाली व उदयपुर के सभी 73 ब्लॉकों व शहरी क्षेत्रों में चलाया जाएगा।ये वो जिले हैं जिनमें अभी भी कुष्ठ रोगी सामने आ रहे हैं। अकेले भरतपुर जिले में अभी भी 15 कुष्ठ रोगी पंजीकृत हैं।

 


एक हजार लोगों पर एक टीम
विभाग की ओर से 11 सितम्बर से 24 सितम्बर 2019 तक चलाए जाने वाले कुष्ठ रोगी खोजी अभियान के लिए टीमें गठित करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। इसके लिए औसतन एक हजार की जनसंख्या पर एक टीम काम करेगी। इस टीम में एक आशा/आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/अन्य महिला कर्मी व एक पुरुष स्वयंसेवक होगा। यह पूरी टीम डोर-टू-डोर सर्वे कर कुष्ठ रोगियों की खोज करेगी।

 


ये हैं कुष्ठ रोग के लक्षण
- शरीर पर लाल, पीले चकत्ते हो जाते हैं।
-चकत्ते वाले स्थान पर त्वचा सुन्न रहती है।
-प्रभावित त्वचा पर पसीना नहीं आता।
-नाक, कान की हड्डी गलने लगती है।
- प्रभावित अंग व हिस्से में घाव हो जाते हैं।

 


ये है उपचार
- शरीर पर यदि पांच तक चकत्ते हैं तो कुष्ठ रोग का 6 माह तक उपचार चलता है।
-शरीर पर यदि पांच से अधिक चकत्ते हैं तो कुष्ठ रोग का 9 माह तक उपचार चलता है।

 


वर्जन
विभाग की ओर से भरतपुर समेत सात जिलों में कुष्ठ रोगी खोजी अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान 11 सितम्बर से 24 सितम्बर 2019 तक चलेगा। अभियान के तहत ऐसे रोगियों को खोजा जाएगा जो संकोचवश व अज्ञानवश कुष्ठ रोग का उपचार नहीं ले पाते।
- डॉ. असित श्रीवास्तव, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, भरतपुर।

Updated On:
19 Aug 2019, 05:01:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।