इनको न जांच का डर न नियमों की परवाह

By: Tarun Kashyap

Published On:
Jul, 11 2019 07:42 PM IST

  • असुरिक्षत व अवैध वाहनों में स्कूल तक का सफर

ब्यावर. अधिकांश स्कूलों में बच्चों को लाने व ले जाने में काम आ रहे वाहनों का बालवाहिनी के नियमों के तहत पंजीकरण नहीं हो सकता। पंजीकृत बालवाहिनी वाहनों की संख्या स्कूलों व विद्यार्थियों के अनुपात में बेहद कम है। यही कारण है कि विद्यार्थियों को मजबूरी में असुरिक्षत व अवैध वाहनों में स्कूल तक का सफर तय करना पड़ रहा है और इन वाहनों के खिलाफ परिवहन विभाग की ओर से कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं की जाती।ऐसे में प्रशासन व परिवहन विभाग की ओर से किए जाने वाले प्रयास केवल खानापूर्ति ही साबित होंगे।
विद्यार्थियों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं हो। उनके स्कूल आने-जाने वाले वाहन सुरक्षा मापदंडों को पूरा करे। इसके लिए वाहनों की जांच करवाई जा रही है। इसके लिए परिवहन विभाग की ओर से पंजीकृत बालवाहिनी के संचालकों को जागरुक किया जा रहा है। लेकिन विद्यालयों के अनुपात में बालवाहिनी वाहनों की संया ही कम है। जिला परिवहन कार्यालय में कुल ही 6 3 बालवाहिनी का पंजीकरण है। इनमें भी बिजयनगर, मसूदा, ब्यावर, जवाजा, टॉडगढ़ शामिल है। जबकि यहां पर बड़ी संया में निजी स्कूलें संचालित है। इन स्कूलों व बच्चों की संया के अनुपात में बालवाहिनी नहीं होने से अधिकांश बच्चे ऑटो व वैन में स्कूल आते है। नियमानुसार इन वाहनों का बालवाहिनी के रुप में पंजीयन ही नहीं हो सकता है।ऐसे में परिवहन विभाग भी वाहनों की फिटनेस करवाकर व जागरुक करके अपनी जिमेदारी पूरी कर रहा है। सभी बालवाहिनी सुरक्षा मापदंडों को पूरा भी कर लेती है तो भी नौनिहालों को लटककर व क्षमता से अधिक बैठकर स्कूल तक जाने की समस्या का निराकरण नहीं हो सकेगा।
13 सीट से अधिक जरूरी
बालवाहिनी में उन वाहनों का ही पंजीयन हो सकता है। जो वाहन 13 सीटर या इससे अधिक क्षमता के है। इससे कम सीटर वाहनों का बालवाहिनी के रुप में पंजीयन नहीं किया जा सकता। जबकि स्कूलों में बच्चों को लाने व ले जाने वाले वाहनों में अधिकांश रुप से ऑटो व वेन ही शामिल है।
आज होगी बैठक
जिला परिवहन कार्यालय में शुक्रवार को बालवाहिनी को लेकर बैठक का आयोजन होगा। इस बैठक में वाहनों की सुरक्षा मानकों पर सही रखना सहित अन्य जानकारी दी जाएगी। इसमें बाल वाहिनी संचालकों को आमंत्रित किया गया है।

Published On:
Jul, 11 2019 07:42 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।