जयपुर ग्रामीण : युवती व नाबालिग से बलात्कार

By: Satya Prakash

Updated On:
10 Jul 2019, 09:15:11 PM IST

  • -शाहपुरा थाना इलाके का मामला


शाहपुरा.
शाहपुरा पुलिस थाने में एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार और एक नाबालिग बालिका से बलात्कार होने का मामला सामने आया है। इस मामले में शाहपुरा थाने में मामला दर्ज हुआ है। बलात्कार की दोनों पीडि़ताओं का पुलिस ने बुधवार को कस्बे के राजकीय अस्पताल में मेडिकल कराया है।

 


सामुहिक बलात्कार के मामले की जांच शाहपुरा डीएसपी राजेश मलिक एवं नाबालिग से बलात्कार के मामले की जांच थाना प्रभारी सीएम जाखड़ कर रहे हैं।

 


थाना प्रभारी सीएम जाखड़ ने बताया कि खातोलाई निवासी एक युवती ने मामला दर्ज कराया कि उसको 6 जून को गांव की आशा, सुनील कुमार और नीरज मीणा बहला फुसलाकर दिल्ली व मुरैना ले गए। उसके बाद नीरज मीणा एवं उसका जानकार दीपू गुर्जर ने पांच दिन तक सामूहिक बलात्कार किया।

 


साथ ही उससे 70 हजार रुपए भी छीन लिए। इसके बाद 7 जुलाई को गाड़ी से अलवर तिराहा पर छोड़ गए। साथ ही घटना के बारे में किसी को भी जानकारी देने पर जान से मारने की धमकी दी।

 


घर में घुसकर 15 साल की नाबालिग से दुष्कर्म

 

इधर, क्षेत्र की एक नाबालिग लड़की की मां ने थाने में दर्ज कराए गए मामले में बताया कि बुधवार सुबह 10-11 बजे से पहले वह एवं उसका पति मजदूरी करने चले गए थे। इसी दौरान घर पर उसकी नाबालिक लड़की अकेली थी, तभी पीछे से गांव के ही रवि कुमार ने घर में घुसकर उसके साथ बलात्कार किया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

 

 

 

 

आम रास्ते पर अतिक्रमण का आरोप, तहसील के सामने जताया विरोध


शाहपुरा.
शाहपुरा उपखण्ड क्षेत्र के गेलाडेरा गांव के कुछ लोगों ने आम रास्ते पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को तहसील के बाहर विरोध जताया। यहां ग्रामीणों ने धरना देकर प्रशासन से कार्रवाई की मांग की। इसके बाद ग्रामीणों ने एसडीएम और तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा।

 


ग्रामीणों ने बताया कि करब 60 साल से गांव में आम रास्ता है। यह रास्ता नदी के बहाव क्षेत्र से गुजरता है। उनका आरोप था कि अतिक्रमियों ने गलत तथ्य पेश कर रास्ते की भूमि को आवंटित करा लिया है। कुछ दिन पहले उक्त लोगों ने रास्ते में तारबंदी भी कर दी। इससे आवागमन का रास्ता बंद हो गया है। उन्होंने बताया कि उक्त रास्ता बंद होने से आवागमन में परेशानी आ रही है। रास्ता बंद होने से बच्चें, मवेशी व ग्रामीण घरों में कैद होकर रहने पर मजबूर हो गए है।


ग्रामीणों ने बताया कि उक्त आम रास्ते से लगते हुए एससी वर्ग के लोग निवास करते है। १976 में इंद्रा गांधी योजना के तहत गरीब परिवारों के काश्त के लिए भूमि आवंटित हुई थी, उससे पहले भी आवागमन का यहीं आम रास्ता था। यह रास्ता गोनाकासर रोड से शमशान घाट होते हुए परमानंदजी महाराज के स्थान तक जाता है। इस दौरान बड़ी संख्या में महिला-पुरुष व बच्चे मौजूद रहे।

----------------

इनका कहना है-
रिकॉर्ड अनुसार रास्ता किसी निजी खातेदारी की भूमि में है। जिस रास्ते की मांग कर रहे है, उधर से कोई रास्ता नहीं है। जांच करने पर पाया गया है कि रास्ता शिकायतकर्ताओं की जमीन से होकर गुजर रहा है।
----संदीप चौधरी, तहसीलदार, शाहपुरा।

Updated On:
10 Jul 2019, 09:15:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।