नर्मदा का जल स्तर 133.300 मीटर पहुंचा, बिना पुनर्वास सरदार सरोवर बांध में पानी बढ़ाने का विरोध

By: Riyaz Sagar

Updated On:
25 Aug 2019, 08:16:07 PM IST

  • सत्याग्रह से केंद्र सरकार को चुनौती : मेधा पाटकर सहित छह महिलाएं छोटा बड़दा में क्रमिक अनशन पर

बड़वानी. सरदार सरोवर बांध के डूब प्रभावित इलाके में रविवार को नर्मदा का जल स्तर 133.300 मीटर पर पहुंच गया। लगातार बढ़ते जल स्तर से बड़वानी जिले के डूब प्रभावित गांवों में पानी भरना शुरू हो गया। बांध भरने को लेकर केंद्र सरकार और गुजरात सरकार के निर्णय के विरोध में नर्मदा बचाओ आंदोलन ने रविवार को अंजड़ तहसील के डूब ग्राम छोटा बड़दा में नर्मदा चुनौती सत्याग्रह शुरू किया। नर्मदा बचाओ आंदोलन नेत्री मेधा पाटकर के साथ स्थानीय डूब प्रभावित पांच महिलाएं क्रमिक अनशन पर बैठ गई हैं। क्रमिक अनशन वाली महिलाएं कमला यादव, सनोबर बी मंसूरी, निर्मलाबाई और देवकुवर अवास्या शामिल हैं।
नबआं नेत्री मेधा पाटकर ने बताया कि सरदार सरोवर बांध में पानी भरने से नर्मदा का जल स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। बड़वानी, धार, अलीराजपुर, खरगोन के 193 डूब गांवों का पुनर्वास अब भी बाकी है। रविवार को नर्मदा का जल स्तर 133.300 मीटर पर पहुंच चुका और पानी लोगों के घरों तक पहुंचना आरंभ हो गया है। उन्हें शनिवार को राज्य सरकार से चर्चा की थी, लेकिन उनका भी कहना है कि वे केंद्र सरकार को बांध भरने से नहीं रोक पा रहे हैं। ऐसे में डूब प्रभावितों के पास सत्याग्रह के अलावा कोई विकल्प नहीं है। यह आंदोलन जलभराव को रोककर पहले डूब प्रभावितों का पुनर्वास होने की हमारी मांग पूरी होने पर ही खत्म होगा।

बड़वानी. चुनौती सत्याग्रह में क्रमिक अनशन पर बैठीं मेधा पाटकर व अन्य महिलाएं।
IMAGE CREDIT: patrika

Updated On:
25 Aug 2019, 08:16:07 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।