भागवत कथा में बोले संत कृपाराम, कन्यादान के समान पुण्य कार्य नहीं

By: Ratan Dave

Published On:
Mar, 07 2018 12:18 PM IST

  • -भागवत कथा का आयोजन

बाड़मेर. जीवन मे सबसे खतरनाक है लोभ है। व्यक्ति आखिरी सांस तक लोभ में फंसा रहता है। जीवन में भगवान की कृपा हो तो लोभ छूटता है। लाभ मिलने से लोभ बढ़ता है। लोभ के कारण पाप हो जाता है तो पाप के बाप का नाम लोभ है। यह बात संत कृपाराम ने प्रवचन के दौरान कही।

नागणेची नंदी गोशाला बांदरा की ओर से सिणधरी चौराहे के पास स्थित मैदान पर चल रही भागवत कथा में संत कृपाराम ने कहा कि जिस घर में एक कन्या होती है, वह घर भाग्यशाली होता है। कन्यादान के बराबर कोई पुण्य नहीं है। कन्या भ््रूण हत्या महापाप है। लोगों की विचारधारा अलग हो गई है । बेटा होता है तो ढोल थाली बजाते हैं पर बेटी होती है तो एक ताली भी नहीं बजाते हैं। सुसंस्कारवान बेटी अपने दम पर पूरे परिवार को चला सकती है। बेटी नहीं बचाओगे तो बहू कहां से लाओगे। भागवत कथा में संत कृपाराम ने कहा कि भगवान केवल भक्त के भाव को देखते हैं।
कन्यादान अश्वमेघ यज्ञ के बराबर

लड़का और लड़की में कोई अंतर मत समझो। एक कन्यादान में अश्वमेघ यज्ञ के बराबर फल मिलता है। पुण्य नहीं कर सकते हो तो पाप भी मत करो। सुसंस्कारवान बेटी अपने दम पर पूरे परिवार को चला सकती है। बेटी नहीं बचाओगे तो बहू कहां से लाओगे। भागवत कथा में संत कृपाराम ने कहा कि भगवान केवल भक्त के भाव को देखते हैं। हास्य कलाकार जगदीश प्रजापति ने कविताओं से दर्शकों गुदगुदाया। साथ ही भक्ति रस की धारा में बहाते हुए लावो लेले रे भक्ति रो आदि भजनों से मंत्रमुग्ध किया।
कथा में महंत महेंद्रनाथ महाराज जसनाथ आश्रम, भगाराम चौधरी,अणदाराम कड़वासरा, मुख्य यजमान रेखाराम सऊ,नागणेची नंदी गोशाला अध्यक्ष रेखाराम डऊकिया, सवाईराम सियाग, भूराराम मायला, खेमाराम आर्य, नरसिंग जांगिड,़ प्रहलाद डूडी, दिनेश, राजूराम, गोमाराम बांगड़वा, केसाराम, मानाराम, रामाराम, बालाराम गोदारा, टीकमाराम, डालूराम, गिरधारी, शिवलाल आदि गो भक्त उपस्थित थे। समिति के प्रवक्ता हनुमानराम डऊकिया ने बताया कि भागवत कथा में बुधवार को विभिन्न प्रसंगों की व्याख्या होगी।

Published On:
Mar, 07 2018 12:18 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।