बाड़मेर नगर परिषद: अब 40 नहीं, 55 होंगे वार्ड, शहर के विकास की बढ़ी उम्मीद

By: bhawani singh

Published On:
Jun, 11 2019 08:37 PM IST

  • -वार्डों का होगा पुनर्गठन व सीमांकन, राज्य सरकार की अधिसूचना जारी, सभी वार्ड में संतुलन की कवायद

     

बाड़मेर. नगर परिषद क्षेत्र में वार्डों के पुनर्गठन/पुन:सीमांकन कार्य करते हुए अब 40 वार्ड की जगह 55 वार्ड होंगे। राज्य सरकार ने सोमवार को अधिसूचना जारी कर दी। उल्लेखनीय है कि पिछली सरकार ने नगर परिषद का क्षेत्र बढ़ाते हुए गांवों को जोड़ा था, लेकिन पिछले दिनों राज्य सरकार ने वह अधिसूचना निरस्त कर कर दी थी। अब नगर परिषद में 40 की जगह 55 वार्ड होने पर वार्ड के विकास की उम्मीद बढ़ी है।

 

जानकारी अनुसार पुनर्गठन के तहत नगर परिषद क्षेत्र में बड़े वार्डो के हिस्से अलग कर नया वार्ड बनाया जाएगा। वहीं पुन:सीमाकंन के तहत नगर परिषद आबादी अनुसार एक-दो वार्ड का बंटवारा कर नया वार्ड विकसित किया जाना प्रस्तावित है। यहां नगरीय क्षेत्र में बसी कई कॉलोनियों को नगर परिषद से जोडऩे की उम्मीद है। इससे कॉलोनियों में मूलभूत सुविधाएं बढ़ेगी और क्षेत्र का विकास होगा।

 

यह होगा फायदा
नगर परिषद क्षेत्र में वार्ड का पुन:सीमाकंन व पुनर्गठन होने से लगभग सभी वार्डों का जनसंख्या बाहुल्य बराबर होगा। ऐसी स्थिति में नगर परिषद बोर्ड में एक-दूसरे पर लगने वाले आरोप-प्रत्यारोप जैसे विवाद समाप्त हो जाएंगे। वर्तमान में जैसे वार्ड संख्या 01 में करीब 6 हजार मतदाता निवासरत है। यहां मतदान के दौरान दो बूथ लगते हैं। अन्य वार्ड में एक-एक बूथ लगता है। ऐसे वार्डो का पुन:सीमाकंन होने के बाद वार्ड को छोटा कर एक नया वार्ड विकसित किया जाएगा। जिससे व्यावहारिक परेशानियों के साथ परिधि की समस्या भी खत्म हो जाएगी।

 

इसलिए हुई बढ़ाने की जरूरत
शहर में लगातार जनसंख्या का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। इसके कारण कई वार्डों में असंतुलन की स्थिति हो रही है। ऐसे में सर्वे में पहले यह देखा जाएगा कि सबसे अधिक जनसंख्या वाले वार्ड कौनसे हैं, जिन्हें छोटा करते हुए नए वार्ड विकसित किए जा सकते हैं। करीब 10 साल पहले पांच वार्ड बढ़े थे। ऐसे में अब वार्ड बढ़ाने की आवश्यकता ज्यादा हो गई थी। सरकार ने प्रदेश के करीब सभी नगरीय निकायों में वार्ड में बढ़ोतरी की है।

 

- वर्ष-2008-09 में बढ़े थे 5 वार्ड
वर्ष-2008-09 में नगर परिषद में 35 वार्ड से बढ़कर 40 बनाए थे। उस वक्त बड़े जनसख्या बाहुल्य वार्डों को छोटा कर नए वार्ड विकसित किए थे। वहीं नई कॉलोनियों के मतदाताओं को जोड़ते हुए वार्डों का पुनर्गठन भी किया था।

 

- यह क्षेत्र जुड़े पुनगर्ठन के तहत
नगरीय क्षेत्र से सटी कॉलोनियों के मतदाताओं को नगर परिषद से जोड़ कर नए वार्ड विकसित करना प्रस्तावित है। यहां सभवत: गेहूं रोड, महाबार रोड, गादान, विष्णु कॉलोनी, इन्द्रा कॉलोनी से सटा इलाका, मंसूरिया कॉलोनी सहित कई कॉलोनियों को जोड़कर नए वार्ड विकसित करने का प्लान है।

Published On:
Jun, 11 2019 08:37 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।