वीडिय़ो में देखें-- बारां झालावाड़ सांसद को इतना गुस्सा आया कि सरेआम कलक्टर को कह दी ऐसी बात, अधिकारी मुंह छिपाते रहे

By: Shiv Bhan Singh

Updated On:
12 Jun 2019, 05:29:16 PM IST

  • वीडिय़ो में देखें-- पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र बारां झालावाड़ सांसद को इतना गुस्सा आया कि सरेआम कलक्टर को कह दी ऐसी बात, अधिकारी मुंह छिपाते रहे

बारां. यहां मिनी सचिवालय सभागार में आयोजित जिला परिषद की साधारण सभा हंगामेदार रही सभा में सांसद दुष्यंत सिंह ने जिला कलेक्टर इंद्र सिंह राव को कांग्रेस का एजेंट तक कह डाला। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन कांग्रेस सरकार के दबाव में काम कर रहा है। पाटोन्दा में सरकार के दबाव में आकर ट्यूबवेल का कनेक्शन काट दिया। जिससे लोगों को पेयजल की परेशानी खड़ी हो गई। वही सांसद सिंह ने कहा कि जिले में 30 हजार किसानों के 170 करोड़ रुपए के ऋण माफ होने की बात कही जा रही है। तो कलक्टर साहब मुझे लिस्ट बताइए कि किन किसानों के ऋण माफ हुए हैं। वहीं उन्होंने कहा कि जिले में किसान निधि योजना पर कार्य नहीं हो रहा है। वही उन्होंने अमृत योजना भी ठप होने को लेकर जिला कलेक्टर को काफी लताड़ पिलाई। उन्होंने कहा कि कलेक्टर साहब जिले की सड़के और रपटे खराब व क्षतिग्रस्त है। लोगो को परेशानी हो रही है।क्या सरकार के पास पैसा नहीं है क्या पैसा मंगवाए।
प्रधान अजीत सिंह मातनी द्वारा वर्ष 2016 में माथना ग्राम पंचायत क्षेत्र में 48 लाख के गबन को लेकर कोऑपरेटिव पर प्रश्न उठाया कि अभी तक उसकी जांच नहीं हो पाई। इस पर सांसद ने जिला कलेक्टर राव से से कहा कि आप तो रेवेन्यू डिपार्टमेंट के आका हो फिर कैसे यह जांच नहीं हो पा रही है। इस पर जिला कलेक्टर ने एक माह में केस डिस्पोजल करने को एमडी को कहा। वहीं एमडी ने तारीख का कमिटमेंट नहीं करने की बात कही।
बैठक में सांसद ने जिला कलेक्टर से क्षेत्र के विकास में भेदभाव बरतने का आरोप लगाते हुए कहा कि छबड़ा छीपाबड़ौद क्षेत्र में विकास कार्य बाधित किया जा रहा है। यहां तक की मूलभूत सुविधाएं बिजली पानी तक की भी अनदेखी की जा रही है।
यहां मिनी सचिवालय सभागार भवन में सुबह 11:00 बजे शुरू हुई जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक 2:30 बजे तक चली जिसमें अधिकतर बिजली पेयजल व चिकित्सा का मुद्दा ही छाया रहा।
वही बैठक वार्ड 16 की सदस्य सरोज मीणा के पति मनीष मीणा द्वारा गुगोर पुलिया का कार्य बंद किए जाने के कारण आक्रोश जताया। जिस पर वहां बैठे जिला परिषद के सीईओ बृजमोहन बैरवा ने कहा कि आप कौन है। बैठक के अंदर कैसे आ गए। इसके बाद उसको बैठक से बाहर निकाल दिया गया। मनीष मीणा ने कहा कि बोलने का अधिकार सबको है। बात रखने का अधिकार सबको है।
बैठक में वार्ड 23 के सदस्य सत्यनारायण भूमलिया ने कहा कि यह जहां जिला परिषद की बैठक हो रही है वही हम पसीना पसीना हो रहे हैं।
वार्ड 17 के सदस्य लोकेश पंकज ने मनरेगा को लेकर कहा कि पहले तो काम करने वालों की एब्सेंट लगा देते है। फिर काट छांट कर फर्जीवाड़ा करते हैं। लेबर से 50 - 50 रुपये वसूल किए जा रहे हैं।
संपूर्ण बैठक में जहां सदस्यों से अधिक सांसद के प्रश्नों से जिला कलेक्टर व जिला परिषद के सीईओ समेत अन्य अधिकारी सांसत में रहे उन्हें उत्तर देते नहीं बन रहा था।
बैठक में जिला प्रमुख नंदलाल सुमन जिला कलेक्टर इंद्र सिंह राव जिला परिषद के सीईओ बृजमोहन बैरवा जिला पुलिस अधीक्षक के एल मीना प्रधान अजीत सिंह समेत कई जनप्रतिनिधि व जिला अधिकारी मौजूद थे।

Updated On:
12 Jun 2019, 05:29:16 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।