देखिए...वीडियो.. मुख्यालय में अवैध बजरी खनन पर चिंता, यहां धड़ल्ले डंपर ले जाने का सिलसिला, खनन विभाग और पुलिस मूकदर्शक

By: deendayal sharma

Published On:
Jun, 12 2019 09:23 AM IST

 
  • राज्य में पाबंदी के बावजूद नाजायज तरीके से बजरी खनन और मनमाने दामों में बिक्री कर कमाई के चल रहे काले धंधे ने प्रदेश मुख्यालय को भले ही चिंतित कर दिया है, लेकिन बांसवाड़ा-डूंगरपुर जिलों में सभी बेफिक्र हैं। यह हकीकत आसपुर से हर रोज सुबह गांवों के रास्ते बांसवाड़ा में लाए जा रहे बजरी के डंपर बयां कर रहे हैं।

बांसवाड़ा/गनोड़ा. राज्य में पाबंदी के बावजूद नाजायज तरीके से बजरी खनन और मनमाने दामों में बिक्री कर कमाई के चल रहे काले धंधे ने प्रदेश मुख्यालय को भले ही चिंतित कर दिया है, लेकिन बांसवाड़ा-डूंगरपुर जिलों में सभी बेफिक्र हैं। यह हकीकत आसपुर से हर रोज सुबह गांवों के रास्ते बांसवाड़ा में लाए जा रहे बजरी के डंपर बयां कर रहे हैं। खनन विभाग मानो बजरी माफिया के आगे नतमस्तक है, वहीं पुलिस की छोटी-मोटी कार्रवाइयां बेअसर साबित हो रही है।

बुधवार सुबह बेणेश्वर से एक-दो नहीं, कई डम्पर बजरी से लदे हुए बांसवाड़ा और घाटोल की तरफ जाते दिखलाई दिए। हालांकि दो दिन पूर्व मोटागांव क्षेत्र में लोहारिया और मोटागांव पुलिस के संयुक्त दस्ते ने पांच डंपर जब्त किए, लेकिन उसके बाद फिर सुस्ती छाने से बजरी परिवहनकर्ता बेखौफ हैं और क्षेत्र से अवैध रूप से बजरी के डम्पर गुजरने का सिलसिला जारी है।

वीडियो : लापरवाही की हद...आदर्श पीएचसी रात में बंद, बाहर तड़पती रही प्रसूता, नहीं सुनी पुकार और आखिर फर्श पर हो गया प्रसव

दूसरी ओर, खनन विभाग के अधिकारी आंखें मूंदे हुए हैं, जिससे मिलीभगत की बू आ रही है। गौरतलब है कि बजरी खनन पर पाबंदी में सख्ती नहीं होने से पुलिस और प्रशासन में बढ़ते भ्रष्टाचार को डीजीपी क्राइम बीएल सोनी भी स्वीकार चुके हैं। सोमवार को मुख्यमंत्री की मौजूदगी में हुई पुलिस मुख्यालय पर हुई अपराध समीक्षा बैठक में खनन माफिया के बढ़ते प्रभाव पर खुलकर बात हुई। इसके बाद भी बांसवाड़ा-डूंगरपुर जिले में प्रशासन और संबंधित विभाग चिंतित नहीं हैं। हालांकि पुलिस प्रशासन की ओर से मोटागांव थानाधिकारी को हाल ही लाइन हाजिर करने की कार्रवाई को इसी मुद्दे से जोड़ा जा रहा है, लेकिन इसके बाद पुलिस मूकदर्शक बनी हुई है।

Published On:
Jun, 12 2019 09:23 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।