राजस्थान का रण : चुनावी जंग में थामी रिश्तों की डोर, पड़ोसी राज्यों से रिश्तेदार व कार्यकर्ता कर रहे सहयोग

By: Ramkaran Katariya

Updated On: Dec, 03 2018 02:55 PM IST

बांसवाड़ा. चुनाव में अपनापन भी कई बार चुनावी वैतरणी पार कराने में सहयोगी साबित होता है। राजस्थान विधानसभा चुनाव में प्रचार अब परवान पर है और गुजरात और मध्यप्रदेश में निवासरत रिश्तेदार और पार्टी के कार्यकर्ता प्रत्याशियों के साथ गांव-गांव पहुंचकर वोट की अपील कर रहे हैं। राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात के सीमावर्ती जिलों में निवासरत लोगों के सामाजिक और आर्थिक संबंध हैं। इन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने पर राजनीतिक दलों के नेता चुनाव प्रचार के लिए जाते रहे हैं। नेताओं के साथ-साथ प्रत्याशियों के सगे-संबंधी भी प्रचार में रिश्तों की डोर थामे साथ रहते हैं और कई-कई दिन तक रहकर सहयोग करते हुए चुनावी बागडोर तक संभालते हैं।

राजस्थान का रण : चुनावी चटकारे लेने हो तो चले आइए पान की दुकान, चाय की थड़ी या बुजुर्गों की महफिल में...

इन्होंने थामी है बागडोर
इन दिनों जिले में चल रहे चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा में गुजरात के पार्टी पदाधिकारी धनसुखभाई, प्रकाश सोनी, विधायक वर्षा बेन सहित 30-40 कार्यकर्ता सीमावर्ती विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी प्रत्याशी के समर्थन में चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं। सोनी ने तो बांसवाड़ा शहर में शनिवार को हुई मुख्यमंत्री की सभा में संबोधित भी किया। वहीं गुजरात के एक विधायक बाबूभाई व झालोद के पूर्व विधायक महेश भूरिया भी दूरस्थ गांवों में चुनाव प्रचार में जुटे हैं। इधर, बागीदौरा विधानसभा क्षेत्र से सटे गुजरात के इलाके से भी कांगे्रस व भाजपा के कुछ कार्यकर्ता और प्रत्याशियों के रिश्तेदारों की टीम चुनाव प्रचार कर रही है। मध्यप्रदेश में पूर्व में मंत्री रहे महेश जोशी भी कुशलगढ़ में चुनावी रणनीति की कमान संभाले हुए हैं।

इनका भी रहता है सहयोग
ऐसा नहीं है कि गुजरात व मध्यप्रदेश के कार्यकर्ता ही राजस्थान के प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में हुए चुनाव के दौरान बांसवाड़ा से भी कई कार्यकर्ता व पदाधिकारी प्रचार के लिए वहां गए थे। गुजरात के विधानसभा चुनावों में भी कांगे्रस नेता महेंद्रजीतसिंह मालवीया व अन्य पदाधिकारी प्रचार के साथ ही चुनावी सभाओं को संबोधित करने जाते रहे हैं।

Published On:
Dec, 03 2018 02:55 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।