Video : पत्रिका जन एजेंडा : कुशलगढ़ की बस यही आस थमे पलायन, बढ़े शिक्षा-चिकित्सा, बुझे खेतों की प्यास

By: Dinesh Chandra

Updated On: Dec, 27 2018 03:57 PM IST

बांसवाड़ा. कुशलगढ़. ‘राजस्थान को मध्य प्रदेश से जोडऩे वाली सीमा पर बसे कुशलगढ़ क्षेत्र में यूं तो समस्याओं का अंबार है लेकिन पलायन और सिंचाई के पानी सरीखी समस्याएं रहरहकर जनता को टीस दे रही हैं। कितनी सरकारें आईं, कितने नेता आए। लेकिन यहां की समस्याएं आज तक कम नहीं हुई।’ यह कहना है कुशलगढ़ विधान सभा क्षेत्र के लोगों का। क्षेत्रवासियों ने पीड़ा सुनाई राजस्थान पत्रिका की ओर से कस्बे के मां भारती कॉलेज में आयोजित ‘जन एजेंडा मीटिंग’ में। बुधवार को आयोजित इस मीटिंग में विद्यार्थियों के अलावा क्षेत्रवासी भी बड़ी संख्या में पहुंचे। जन एजेंडा के दौरान कॉलेज उपप्राचार्य यशोदा त्रिवेदी, वीरप्रताप सिंह चौहान, राकेश कटारा, नृसिंह मुनिया, तोलिया कटारा, राकेश मईड़ा, गोविंद अड, कांतिलाल डामोर, रोहित पंवार सहित कई लोगों ने क्षेत्र की समस्याओं का रखा।

राजनीतिक उपेक्षाओं का शिकार
कुशलगढ़ क्षेत्र राजनीतिक उपेक्षाओं का शिकार हुआ। विद्यालयों में विद्याार्थियों के अनुपात में अध्यापक नहीं जिससे शिक्षा का स्तर कम है। स्तर सुधारने पर जोर देने की महत्ती आवाश्यकता है। जीतने के बाद विधायक जनता के हित में कार्य करे। हमें अपने अधिकारों व कर्तव्यों के प्रति जागरूक होना आवश्यक।
-हरेन्द्र पाठक

लघु उद्योग की नींव रोकेगी पलायन
क्षेत्र में पलायन एक बड़ी समस्या है। लोगों को रोजगार न मिलने के कारण महाराष्ट्र, गुजरात के अलावा अन्य कई प्रदेशों में जाना पड़ता है। इसे रोकने के लिए सरकार को लघु उद्योगों की नींव रखनी चाहिए। ताकि अशिक्षित वर्ग को भी यहां रोजगार मिल सके या वो स्वयं का उद्योग स्थापित कर सके।
-कमलेश कावडिय़ा

बांसवाड़ा : पत्रिका की पहल पर प्रत्याशियों ने भरे संकल्प पत्र, जनभावना के अनुरूप काम करने और विकास को बताई प्राथमिकता

काश्तकार आज भी परेशान
मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर जिले के किसानों के लिए सिंचाई का पानी समय पर और पर्याप्त न मिलना आज भी बड़ी समस्या है। और यही हाल कुशलगढ़ विधानसभा क्षेत्र के किसानों का भी है। माही का पानी यहां तक लाने या अन्य व्यवस्था ही यहां के किसानों का उद्धार कर सकती है।
-चन्द्रकांत मेहता

न शिक्षा न ही चिकित्सा
यह सिर्फ दुर्भाग्य ही है कि राजनेताओं के द्वारा विकास की घोषणा तो खूब की जाती है पर क्रियान्वित करने मेें कोई रूचि नहीं दिखाता। इस कारण शिक्षा और चिकित्सा सरीखी मूल सुविधाओं से भी यहां के लोग वङ्क्षचत हैं। छोटी-मोटी बीमारी पर लोगों को गुजरात या एमपी का रुख करना पड़ता है।
-निकिता त्रिवेदी, अध्यापिका

इन्होंने भी रखी परेशानियां
दिव्यराजसिंह गौर ने क्षेत्र में पानी की समस्या निजात दिलाने की बात कही। मोहनलाल ने अस्पताल में चिकित्सकों के रिक्त पदों को भरने तो पूजा माधवी ने पेयजल की समस्या बताई। गुड्डू कतिजा ने बताया कि जरूरत का पानी तक दो किमी दूर से लाना पड़ता है।

मतदान का संकल्प, फेक न्यूज से दूरी की शपथ
कुशलगढ़. विधानसभा चुनाव के लिए सात दिसम्बर को अधिक से अधिक लोगों को मतदान करने के लिए प्रेरित करने और स्वयं भी वोट डालने के लिए बुधवार को कुशलगढ़ विधानसभा क्षेत्र के 300 युवाओं ने संकल्प लिया। आमजन को भ्रामक और फेक न्यूज से बचाने के उद्देश्य से राजस्थान पत्रिका और फेसबुक की पार्टनरशिप में चलाए जा रहे ‘शुद्ध का युद्ध’ अभियान के बारे में जानकारी दी गई। आमजन को सोशल मीडिया पर तेजी से फैलने वाली फेक न्यूज के बारे में बताया गया साथ ही उनसे बचने के तरीकों से भी अवगत कराया गया। इस दौरान विद्यार्थियों ने कई सवाल-जवाब कर अपनी शंकाओं को भी दूर किया। इसके बाद मेरा वोट मेरा संकल्प अभियान के तहत कॉलेज के करीब 300 विद्यार्थियों ने एक साथ चुनाव में सही उम्मीदवार को वोट करने और परिजनों व अन्य लोगों को भी वोट देने के लिए प्रेरित करने की शपथ ली। कॉलेज की उपप्राचार्य यशोदा त्रिवेदी ने सभी विद्यार्थियों तथा स्टाफ सदस्यों को शपथ दिलाई।

Published On:
Dec, 06 2018 02:16 PM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।