बांसवाड़ा : वनेश्वर मंदिर परिसर में 100 विप्रवरों ने किया महारुद्र अनुष्ठान

By: deendayal sharma

Updated On: 25 Aug 2019, 09:03:47 PM IST

  • बांसवाड़ा के वनेश्वर मंदिर परिसर में 100 विप्रवरों ने श्रावण मास के आयोजनों के अतिरिक्त महारुद्र अनुष्ठान किया।

 

बांसवाड़ा. वनेश्वर प्रदोष मंडल के सानिध्य में 100 विप्रवरों ने श्रावण मास के आयोजनों के अतिरिक्त महारुद्र अनुष्ठान किया। श्री स्वामी रामानंद सरस्वती वेद पाठशाला में अनुष्ठान लालीवाव मठ के महंत हरिओमदास महाराज, बड़ा रामद्वारा के महंत रामप्रकाश महाराज, उदयराम महाराज के आतिथ्य में हुआ।

बांसवाड़ा : यज्ञानुष्ठान और भजन-कीर्तन के साथ धूमधाम से मनाया गोगाजी बावजी का प्राकट्योत्सव

इस अवसर पर लालीवाव मठ के महंत ने अनुष्ठान को स्वामी रामानन्द सरस्वती की इच्छा अनुरूप बताते हुए आज की आवश्यकता बताया। बड़ा रामद्वारा महन्त रामप्रकाश महाराज ने कहा कि वैदिक कर्म से व्यक्ति में राष्ट्र प्रेम जागृत होता है। प. जयप्रकाश पंड्या, पं. रवि पाठक, निमेष मेहता ने वेद पाठशाला की गतिविधियों की सराहना कर तन, मन व धन से सहयोग का आश्वासन दिया।

बांसवाड़ा : निरंकारी मंडल के विशेष शिविर में 53 महिलाओं-पुरुषों ने किया रक्तदान

इस अवसर पर वेद पाठशाला के मुख्य संचालक हर्षवर्धन व्यास के मार्गदर्शन, पं. चित्रेश व्यास के आचार्यत्व में पं. मयूर दवे, मुम्बई के धर्मानुरागी पं. रवि पाठक ने गणपति पूजन, शिव पूजन, पुण्याहवाचन कर्म करवाया गया। यह अनुष्ठान वनेश्वर प्रदोष मंडल के सानिध्य में 100 से अधिक विप्रवरों द्वारा किया गया। अंत में उत्तर पूजन, आरती करके महाप्रसाद हुआ। अनुष्ठान में मनोज रावल, देवकीनन्दन जोशी, भरत व्यास, जनक जोशी, धीरेंद्र व्यास, गोपाल जोशी, राकेश जोशी आदि उपस्थित रहे। वेद पाठशाला का प्रगति प्रतिवेदन व संचालित गतिविधियों की जानकारी प्रस्तुत की गई।

Updated On:
25 Aug 2019, 09:02:29 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।