कुमारस्वामी को ज्ञापन सौंपकर, लंबित आवासीय समस्या के समाधान की मांग

By: Shankar Sharma

Published On:
Sep, 12 2018 05:49 AM IST

  • विजयश्रीपुर के निवासियों ने मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को ज्ञापन सौंपकर पिछले तीस वर्षों से लंबित आवासीय समस्या के समाधान की मांग की।

मैसूरु. विजयश्रीपुर के निवासियों ने मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को ज्ञापन सौंपकर पिछले तीस वर्षों से लंबित आवासीय समस्या के समाधान की मांग की। मुख्यमंत्री से उनकी लम्बी बातचीत हुई और शिकायतों से अवगत करवाया गया। लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि मैसूरु शहर विकास प्राधिकरण (मुडा) द्वारा शुरू की गई योजना अब सरकार के हाथ में है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने प्राधिकरण को योजना के लिए जगह निर्धारित करने का मौखिक निर्देश दिया था। लेकिन अधिकारियों का कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में साइट्स की अनुमति देना मुश्किल है। इसके लिए मंत्रिमंडल का अनुमोदन जरूरी है। लोगों ने मुख्यमंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप कर शीघ्र निर्णय लेने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री के साथ उच्च शिक्षा मंत्री जी टी देवेगौड़ा, सा.रा. महेश आदि मौजूद रहे।

बुनियादी समस्याओं पर चर्चा
मण्ड्या. शहर में कर्नाटक अभिवृद्धि त्रैमासिक प्रगति समीक्षा सभा मंगलवार को कावेरी सभागार में लघु सिचाई मंत्री सीएस पुट्टराजु की अध्यक्षता में हुई। सभा में खस्ताहाल सडक़ों का डामरीकरण नहीं होने, किसानों की सिंचाई की समस्या, गांव में बिजली की समस्या आदि पर चर्चा की गई। सभा में परिवहन मंत्री डीसी तमन्ना, श्रीरंगपट्टण विधायक रविन्द्र श्रीकंठया, मंड्या विधायक एम श्रीनिवास, विधायक के अन्नदानी गौड़ा, जिलाधिकारी मंजूश्री सहित जिला पंचायत सदस्य मौजूद थे।

सुखी जीवन जीने के बताए गुर
चामराजनगर. राजस्थान जैन संघ के तत्वावधान में पर्युषण साधना में स्वाध्यायी सिद्धि बोहरा ने कहा कि हम दूसरों के नजरिए को समझकर निर्णायक न होते हुए जब परिवार और समाज को साथ लेकर चलते हैं तब हम सभी की भावनाओं को आदर देकर उन्हें खुश रखकर खुद भी खुश हो सकते हैं।


स्वाध्यायी अंजना बोहरा ने सुखी जीवन जीने के टिप्स और मनुष्यत्व को पालन करने के तरीके बताए। उन्होंने कहा कि एकरूपता, दया भाव रखना, नकारात्मक विचार और इमोशंस से बचना, जिससे जीवन में बहुत सुख और शांति की प्राप्ति होती है। स्वाध्यायी रूपा विनायकिया नेरात्रि भोज का त्याग और उसके सदुपयोग के बारे में जानकारी दी। स्वाध्यायी वीणा पुनमिया ने अंतगड़ सूत्र का वाचन किया। स्वाध्यायी लक्ष्मी वेदमुथा ने गीतिका प्रस्तुत की।

Published On:
Sep, 12 2018 05:49 AM IST