पीओपी से बनी मूर्तियां नहीं खरीदने की अपील

By: Shankar Sharma

Published On:
Sep, 11 2018 11:45 PM IST

  • प्रकृति के लिए हानिकारक प्लॉस्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) से बनी गणेश मूर्तियों के बदले मिट्टी से बनी मूर्तियों को पूजन करें और पर्यावरण की रक्षा कर अपना दायित्व निभाएं।

बेंगलूरु. प्रकृति के लिए हानिकारक प्लॉस्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) से बनी गणेश मूर्तियों के बदले मिट्टी से बनी मूर्तियों को पूजन करें और पर्यावरण की रक्षा कर अपना दायित्व निभाएं। बीबीएमपी के महापौर संपतराज ने यह बात कही। रविवार को बीबीएमपी अधिकारी तथा कर्मचारी संघ की ओर से मिट्टी की गणेश मूर्तियों के नि:शुल्क वितरण तथा पर्यावरण जागरूकता अभियान कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि अब पीओपी की मूर्तियों का कारोबार कम हुआ है। बीबीएमपी के अधिकारियों ने पीओपी से बनी सैकड़ों मूर्तियां बरामद की हैं।

शहर की जनता भी अब पीओपी से बनी मूर्तियों का पूजन नहीं कर रही है, यही इस अभियान की सफलता है।उपमहापौर पद्मावती ने कहा कि बच्चे मिट्टी से बनी गणेश मू्र्ति के बदले आकर्षक दिखाई देने वाली पीओपी की मूर्ति खरीदने की जिद करें तो अभिभावक उन्हें समझाएं। उनसे होने वाले नुकसान के बारे में विस्तार से जानकारी दें। इस अवसर पर बीबीएमपी अधिकारी तथा कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अमृतराज ने कहा कि बीबीएमपी परिसर में स्थित डॉ. राजकुमार ग्लास हाउस में सोमवार को भी मिट्टी की मूर्तियों का नि:शुल्क वितरण किया जाएगा।

भीतर के प्रदूषण को हटाने का पर्व है पर्युषण
चामराजनगर. गुंंडलपेट स्थानक में साध्वी साक्षी ज्योति ने कहा कि पर्युषण भीतर के प्रदूषण को हटाने का पर्व है। मन के प्रदूषण से परेशानियां आती हंै। इसलिए जितनी जरूरत बाहर के प्रदूषण को कम करने की है, उतनी ही जरूरत है भीतर के प्रदूषण को समाप्त करने की।


उन्होंने कहा कि पर्युषण हृदय शुद्धि और कषाय मुक्ति का पर्व है। ८४ लाख जीव योनियों से क्षमा मांगना सरल है, पर जिनसे हमारा मनमुटाव है या जिस का हमने और जिसने हमारा दिल दुखाया है उससे मा फी मांग ना सच्चा धर्म है। हम साल भर भले ही गर्म रहें, पर अब तो नर म बन जाएं। मन में पलने वाली गांठों को दूर कर लें।

Published On:
Sep, 11 2018 11:45 PM IST