रेल विभाग पूरा नहीं कर पाया वादा

By: Mukesh Yadav

Updated On: 25 Aug 2019, 07:12:32 PM IST

  • देखते ही देखते बीत गए 6 साल-
    अंडरब्रिज का अभाव, कंधे पर साईकिल उठाकर ग्रामीण पटरी कर रहे पार


कटंगी। क्षेत्र की जनता साथ रेल विभाग ने किया वादा आज तक पूरा नहीं किया है। जिससे सैकड़ों राहगीरों को प्रतिदिन आवागमन में परेशानी हो रही है। दरअसल, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रेल विभाग ने बसपा नेता रहे उदयसिंह पंचेश्वर को 11 जनवरी 2013 को लेवल क्रांसिग बीके -64 किमी. 1088/1-2 पर एलएचएस बनाने का लिखित आश्वासन दिया था, जो पूरा नहीं किया गया है। इसके अलावा रेल विभाग ने रेलवे स्टेशन से 50 मीटर की दूरी पर ब्रिज क्रमांक 138 के नीचे से आवागमन के लिहाज से दुरस्त कराने का भरोसा दिया था वह भी तैयार नहीं किया है। जिससे राहगीरों को दिक्कत हो रही है।
कटंगी-छतेरा मार्ग से होकर सेलवा, बडग़ांव, सांवगी, आगरवाड़ा, नंदेलसरा, सीताखोह, कलगांव, बाहकल, अतरी, गजपुर, टटेकसा, दुधारा, पांजरा, मगलेगांव, नवेगांव सहित अन्य दर्जनों गांव के राहगीर प्रतिदिन अपने दैनिक कार्य के लिए कटंगी मुख्यालय आवागमन करते हैं। जिन्हें क्रांसिग पर अंडरब्रिज नहीं होने से परेशानी होती है। इन सभी मुसाफिरों को 1 किमी. का लंबा फेरा तय कर आना पड़ता है। सर्वाधिक परेशानी स्कूली छात्र-छात्राओं को होती है, वह साढ़े 11 बजे जिस वक्त ट्रेन आती है, वह जान जोखिम में डालकर साईकिल उठाकर क्रांसिग पार करते हैं। ऐसे में अक्सर यहां बड़ी दुर्घटना होने का अंदेशा बना रहता है।
उल्लेखनीय है कि कटंगी से बालाघाट गोंदिया के बीच जब नैरोगेज टे्रक था उस वक्त छतेरा में राहगीर आसानी से आवागमन कर लेते थे। लेकिन बाडग्रेज के निर्माण के समय राहगीरों के हितों को ध्यान में रखे बगैर मनमाने तरीके से रेलवे पटरियां बिछा दी गई। इसके बाद से राहगीरों को आवागमन करने में परेशानी हो रही है। रेल विभाग का तर्क है कि राहगीरों के आवागमन के लिए सड़क बना दी गई है। इधर, 6 साल पहले दिए गए लिखित आश्वासन के बाद भी एलएचएस एवं ब्रिज क्रमांक 138 के नीचे से आवागमन के लिहाज से दुरस्त नहीं कराने से ग्रामीण जनता में आक्रोश व्याप्त है।

Updated On:
25 Aug 2019, 07:12:31 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।