राम नगरी अयोध्या में शुरू हुआ झूलोत्सव का उल्लास

By: Satya Prakash

Updated On:
03 Aug 2019, 08:30:25 PM IST

  • सीता राम रथ के साथ मणि पर्वत पर लगा मेला झूले पर बैठे कनक बिहारी सरकार

अयोध्या : झूला पड़ा मणि पर्वत पर झूले अवध बिहारी..... मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या के मणि पर्वत पर लगा आस्था का मेला जिसमे शामिल होने के लिए लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। अयोध्या के परंपरा रूप सावन कृष्ण पक्ष तृतीय को अयोध्या के मंदिरों से सीता राम रथ निकाल कर मणि पर्वत पहुंचा जहां भगवान श्री राम व माता जानकी को झूला झुलाया गया इस झूलनोत्सव के साथ आज से पूरी नगरी में झूलोत्सव का आयोजन शुरू हुआ।

अयोध्या में झूलनोत्सव की परम्परा आदिकाल से परंपरागत रूप से मनाया जाता है। विश्व विख्यात सावन झूला महोत्सव श्रावण मास शुक्ल पक्ष तृतीय को मणि पर्वत से प्रारंभ होता हैं। पुराणों में वर्णित है कि जब मां सीता व भगवान श्री राम का विवाह उपरांत अयोध्या पहुंचे थे तो राजा जनक ने अपनी पुत्री को उपहार स्वरूप बड़ी संख्या में मनी को भी साथ भेजा था इन मणियों की संख्या इतनी थी कि राजमहल में नहीं रखा जाए सका तो राजा दशरथ ने इन सभी मणियों को अयोध्या के दक्षिण क्षेत्र स्थित विद्या कुंड के पास रखवा दिया मणियों की संख्या अधिक होने के कारण या एक पर्वत जैसा बन गया तभी से इस स्थान का नाम मणि पर्वत पड़ा। इस स्थान पर लगने वाली झूलोंत्सव उस समय से शुरू हुआ जब माता सीता श्रावण मास में अपने मायके जनकपुरी न जाकर मणियों से बनी पर्वत को ही अपना मायका मानकर पंचमी मनाई और उस स्थान पर भगवान श्री राम के साथ जाकर झूला झूलती थी। तभी से इस स्थान को लेकर झूलनोत्सव परंपरा चलती आ रही है आज भी भगवान श्रीराम व माता जानकी के स्वरूपों को इस स्थान पर लाकर झूला झूल आते हैं जिसके साथ अयोध्या का झूला उत्सव की शुरुआत हो जाती है और अयोध्या के मंदिरों में भगवान को झूले पर बैठाया जाता है। इस स्थान पर आज भी ऐतिहासिक भगवान श्री राम माता जानकी व लक्ष्मण भरत शत्रुघ्न का मंदिर स्थापित जिसकी पूजा अर्चना प्राचीन परंपरा के अनुसार से किया जाता है इस ऐतिहासिक क्षण का दर्शन के लिए आज भी देश विदेश से पर्यटक व श्रद्धालु अयोध्या पहुंचते हैं और झूलनोत्सव में भाग लेते हैं।

Updated On:
03 Aug 2019, 08:30:25 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।