Sri Lanka Blasts: श्रीलंका सरकार ने मुस्लिम आतंकी समूहों को ठहराया जिम्मेदार, कहा- सामने आई खुफिया तंत्र की विफलता

By: Anil Kumar

Updated On: Apr, 23 2019 07:25 AM IST

    • श्रीलंका में रविवार को हुए थे आठ सीरियल बम धमाके।
    • चर्च और होटलों में किए गए थे धमाके।
    • इस घटना के बाद सरकरा ने पूरे देश में आपातकाल की घोषणा कर दी है।

कोलंबो। श्रीलंका की राजधानी कोलंबो व अन्य जगहों पर हुए सीरियल बम धमाकों को लेकर सोमवार को सरकार ने एक बड़ी बात कही है। सरकार ने सोमवार को दावा करते हुए कहा है कि ईस्टर के दिन हुए भयावह सिलसिलेवार बम धमाकों के लिए श्रीलंकाई मुस्लिम समूह जिम्मेदार है साथ ही इस घटना के लिए खुफिया तंत्र की विफलता के जिम्मेदार बताया है। बता दें कि रविवार को हुए एक के बाद एक कुल धमाकों में 290 लोगों की मौत हो गई, जबकि 500 से अधिक लोग घायल हो गए। सोमवार को भी कोलंबो बस अड्डे पर 87 बम डेटोनेटर मिलने की खबर सामने आई जिसके बाद से पूरे देश में फिर से हड़कंप मच गया। बमों को डिफ्यूज करने के दौरान एक बम फट गया। हालांकि इसमें कोई भी हताहत नहीं हुआ। इस पूरे घटनाक्रम के बाद तलाशी अभियान के साथ जांच-पड़ताल जारी है और अब तक 24 संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। फिलहाल सरकार ने पूरे देश में एक बार फिर से आपातकाल की घोषणा कर दी है।

एमक्यूएम के संस्थापक अल्ताफ हुसैन का दावा, श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट में पाकिस्तान की आईएसआई का हाथ संभव

नेशनल तौहीद जमात पर है शक

सरकार ने मीडिया को बताया कि नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) ने श्रीलंका के तीन शहरों में आठ विस्फोट किए जिसमें 500 से अधिक लोग घायल भी हुए हैं। स्वास्थ्य मंत्री रजिथा सेनारत्ने ने कहा कि हमले में नेशनल तौहीद जमात शामिल है। यह एक स्थानीय संगठन है। हम नहीं जानते कि वे बाहरी लोगों से जुड़े हैं या नहीं? गिरफ्तार किए गए सभी लोग स्थानीय हैं। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि अन्य मंत्रियों के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए सेनारत्ने ने सुनियोजित हमलों को एक 'घातक खुफिया विफलता' बताया। उन्होंने कहा कि पहले से जानकारी होने के बावजूद भी हमलों को रोका नहीं जा सका। मंत्री ने कहा कि 4 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय खुफिया एजेंसियों (जिनके नामों का उन्होंने खुलासा नहीं किया) ने इन हमलों की चेतावनी दी थी और यहां तक बताया था कि यह हमले चर्च और पर्यटन स्थल पर हो सकते हैं। सेनारत्ने ने कहा कि पुलिस महानिरीक्षक को 9 अप्रैल को इस बारे में सूचना देने के साथ-साथ संदिग्ध आतंकवादियों के नाम भी दिए गए थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद रविवार को राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना से मिलना चाहती थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका क्योंकि वे विदेश में थे।

Sri Lanka Blasts: क्या आंतरिक आक्रोश से जूझ रहा है देश?

सरकार ने परिवार वालों से मांगी माफी

स्वास्थ्य मंत्री रजिथा सेनारत्ने ने कहा कि सरकार की तरफ से हम परिवारों और अन्य संस्थानों से माफी मांगते हैं। समस्या यह है कि जब हम कैबिनेट की बैठक में प्रधानमंत्री से मिले तो खुद प्रधानमंत्री भी इसे लेकर अंधेरे में थे। उन्होंने भी यह सर्कुलर तब देखा था जब हमने इसे दिखाया। उन्हें सुरक्षा परिषद की बैठकों से बाहर रखा गया था। श्रीलंका के दो मंत्रियों मनो गणेशन और हरिन फर्नांडो ने भी ट्विटर पर कहा कि सरकार को आसन्न हमले की पूर्व सूचना थी। सेनारत्ने ने कहा कि आज सुबह (सोमवार को) राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री पहली बार मिले। आज हमें इस स्थिति से उबरने के लिए एकीकृत राजनीतिक नेतृत्व की आवश्यकता है और हम हमारे देश से आतंकवाद को मिटाने के लिए हर कदम उठाएंगे। उन्होंने पुलिस महानिरीक्षक के इस्तीफे का मांग की। हाल के दिनों में श्रीलंका राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच राजनैतिक रस्साकशी का शिकार रहा है।

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर .

Published On:
Apr, 22 2019 06:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।