इस वजह से भारत के लिए अहम है शिंजो आबे का ये दौरा

Rahul Chauhan

Publish: Sep, 13 2017 07:12:00 (IST) | Updated: Sep, 13 2017 07:16:00 (IST)

Asia

पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में जापानी पीएम की यह यात्रा राजनीतिक तौर पर भी अहम है।

नई दिल्ली: भारत और जापान के संबंधों में बुलेट ट्रेन परियोजना से और अधिक तेजी की उम्मीद जताई जा रही है, क्योंकि जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार को ऐसे कई मुद्दों पर बातचीत करेंगे, जिनसे दोनों देशों की दोस्ती और मजबूत होगी। आबे बुधवार को भारत की यात्रा पर सीधे अहमदाबाद पहुंचे हैं। किसी विदेशी राष्ट्राध्यक्ष का दिल्ली के बजाय सीधे गुजरात आना खास बात है।

साल के अंत तक गुजरात में होने हैं विधानसभा चुनाव 
पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में जापानी पीएम की यह यात्रा राजनीतिक तौर पर भी अहम है। दोनों नेता गुजरात के गांधीनगर में सालाना शिखर बैठक करेंगे। दोनों नेताओं के बीच यह ऐसी चौथी शिखर बैठक है। इस दौरान दोनों देश अपनी विशेष रणनीतिक और वैश्विक साझेदारी का विस्तार करने पर बातचीत करेंगे। आबे के इस दौरे से पांच अहम मुद्दों पर ठोस बातचीत के आसार हैं।

रक्षा सहयोग
भारत और जापान के बीच रक्षा सहयोग प्राथमिकता का क्षेत्र बताया गया है। इसी महीने पूर्व रक्षा मंत्री अरुण जेटली जापान गए थे और उनकी वहां के रक्षा मंत्री से बातचीत हुई थी, जिसमें रक्षा सहयोग बढ़ने के संकेत मिले थे। भारत नेवी के लिए 12 समुद्री सर्विलांस विमान US2i की डील फाइनल कर सकता है। ऊंची कीमत के कारण इस डील के पूरा होने का 7 साल से इंतजार है।

समुद्री सहयोग
दोनों देशों के बीच समुद्री सुरक्षा के मुद्दे पर भी बातचीत होने की उम्मीद है, क्योंकि इस मसले पर दोनों के हित जुड़े हुए हैं। हिंद महासागर और साउथ चाइना सी में चीन की बढ़ती गतिविधियों के बीच दोनों देशों में सहयोग जरूरी माना जा रहा है। भारत और जापान ने अमेरिका के साथ मिलकर हाल में ही मालाबार सैन्य अभ्यास किया था और आगे इस अभ्यास के विस्तार की बात है। मुमकिन है कि अभ्यास में ऑस्ट्रेलिया को जोड़ने पर बात हो

परमाणु समझौता
दोनों देशों के बीच सिविल एटमी डील का करार लागू हो चुका है। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने संकेत दिए हैं कि बैठक में इस करार को कैसे आगे ले जाया जाए, इस पर बात हो सकती है। भारत ने परमाणु अप्रसार संधि पर साइन नहीं किए हैं, फिर भी जापान परमाणु बिजली बनाने की तकनीक देगा। मुमकिन है कि पावर प्लांट के उपकरण मेक इन इंडिया के तहत बनाने पर भी बात हो।

उत्तर कोरिया
भारत और जापान की सालाना बैठक ऐसे समय में हो रही है, जब उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम का मुद्दा गरम है। अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया उसके खिलाफ हैं और भारत ने भी उत्तर कोरिया के रुख की आलोचना की है। बता दें कि डोकलाम में जब भारत और चीन के बीच टकराव चला था तो जापान ने खुलकर भारत का समर्थन किया था। शिखर बैठक में क्षेत्रीय और ग्लोबल मुद्दों पर बात होगी।

एशिया अफ्रीका ग्रोथ कॉरिडोर
दोनों देशों की सालाना बैठक में एशिया अफ्रीका ग्रोथ कॉरिडोर का मुद्दा अहम होगा, जो चीन के वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट का जवाब माना जा रहा है। विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया है कि इसके लिए कवायद जारी है। हम इस पर जापान और तीसरे देशों से गठजोड़ की उम्मीद रखते हैं और इसमें मजबूती आ रही है।

Web Title "Important reason of shinzo Abe visit to India"

Rajasthan Patrika Live TV