आसियान नेताओं ने संरक्षणवाद पर जताई चिंता, कहा- औद्योगिक क्रांति की जरुरत

By: Mangala Prasad Yadav

Published On:
Sep, 12 2018 05:51 PM IST

  • आसियान नेताओं ने व्यापार युद्ध पर चिंता जाहिर की है और व्यापार संरक्षणवाद के खिलाफ चेतावनी दी है।

हनोईः एसोसिएशन ऑफ साउथ ईस्ट एशियाई नेशंस (आसियान) के नेताओं ने क्षेत्रीय विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के शिखर सम्मेलन में एक सत्र के दौरान बुधवार को 'चौथी औद्योगिक क्रांति' को पुर्नजीवन प्रदान करने के लिए क्षेत्र के देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने की आवश्यकता पर बल दिया और बढ़ते व्यापार संरक्षणवाद के खिलाफ चेतावनी दी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विदोदो ने कहा कि व्यापार युद्ध पहले भी एक वास्तविकता रही थी और क्षेत्र में इससे जूझने की क्षमता है। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से चीन और अमरीका के बीच चल रहे टैरिफ युद्ध का जिक्र किए बगैर ये बातें कही।

ये भी पढ़ें- ASEAN: पीएम मोदी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से किया PAK को अलग-थलग करने का आह्वान

व्यापार युद्ध पर जताई चिंता
इंडोनेशियाई राष्ट्रपति ने एवेंजर्स फिल्म का संदर्भ देते हुए कहा, "1930 के दशक की विशाल मंदी के बाद से व्यापार में तेजी आई है। आश्वस्त रहें, मैं और मेरे एवेंजर्स साथी आबादी के आधे हिस्से को खत्म करने में लगे थानोस से मुकाबले के लिए तैयार हैं।" हालांकि, उन्होंने चेतावनी दी कि व्यापार युद्ध 'एवेंजर्स इन्फिनिटी वॉर' की साजिश नहीं बनना चाहिए और जोर देकर कहा कि यह कहना गलत होता कि 'कुछ देशों के उदय से दूसरे देशों का पतन होता है।' अन्य आसियान नेताओं ने भी क्षेत्रीय सहयोग और खुलेपन पर जोर दिया।

ये भी पढ़ेंः ASEAN summit: 15 साल बाद भी पूरा नहीं हो सका है भारत-म्यांमार-थाइलैंड के बीच सीधी सड़क का सपना

संरक्षणवाद की निंदा
पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के उपराष्ट्रपति हू चुनुआ ने एक तेजी से बढ़ते संरक्षणवाद की निंदा की और अधिक खुली वैश्विक अर्थव्यवस्था की मांग की। उन्होंने कहा, "चीन यदि अपने दरवाजे को पूरा खोलने का संकल्प ले तो भी काम नहीं बनेगा। हम अपनी गति से आगे बढ़ने का प्रयास करेंगे। इससे आसियान देशों और अन्य देशों को अवसर मिलेंगे।"

Published On:
Sep, 12 2018 05:51 PM IST