janmashtami 2019 : पानी की तेज बौछारों के बीच चार घंटे की मशक्कत के बाद फूट सकी मटकी

By: Arvind jain

Updated On:
25 Aug 2019, 09:29:44 AM IST


  • - रात बजे तो गूंजे जयकारे हुई महाआरती, कहीं 56 भोग तो कहीं एक क्विंटल घी की पंजरी से लगा भोग।

अशोकनगर। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी janmashtami 2019 पूरी रात जारी रहा। रात 12 बजे तो मंदिर जयकारों से गूंजने लगे और भगवान की महाआरती हुई। साथ ही कहीं पर भगवान को 56 प्रकार की मिठाईयों को भोग लगाया गया तो कहीं पर एक क्विंटल घी की पंजरी वितरित की गई। शहर के एक सैंकड़ा स्थानों पर मटकी फोड़ प्रतियोगिताएं हुईं। मुख्य स्थल पर चार घंटे की मशक्कत के बाद रात साढ़े 12 बजे मटकी फोड़ सके।

 

आभूषणों से आकर्षक रूप से सजाया गया
रास्त में मुख्य कार्यक्रम सराफा बाजार स्थित मंदिर में हुआ। जहां पर भगवान को सोने-चांदी के आभूषणों से आकर्षक रूप से सजाया गया। शिव गौरी मंदिर में भगवान को पालना झुलाया गया और जन्मोत्सव मनाते हुए श्रद्धालु जमकर नाचे व बधाई गाई गईं। जैसे ही रात के 12 बजे तो सभी जगहों पर एक साथ भए प्रकट कृपाला दीनदयाला और जय कन्हैया लाल की, आदि जयकारे गूंजने लगे।

 

हजारों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे

इस दौरान हजारों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे। शहर के तुलसी पार्क पर रात आठ बजे से मटकी फोडऩे के लिए युवाओं की टोलियां पानी की बौछारों की बीच लगातार साढ़े चार घंटे तक मशक्कत करते रहे और साढ़े 12 बजे मटकी फूट सकी। गांधी पार्क पर गौकुल सेवा संस्थान, तुलसी पार्क पर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव समिति द्वारा मटकी फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

Updated On:
25 Aug 2019, 09:29:44 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।