WEIGHT GAIN : इन दिक्कतों की वजह से नहीं बढ़ता है वजन

|

Published: 27 Aug 2020, 10:38 PM IST

वजन को मापने के लिए बॉडी इंडेक्स फॉर्मुला का प्रयोग किया जाता है जिसमें लंबाई को वजन से स्क्वायर में भाग देते हैं। इससे बीएमाआई निकलकर आती है। किसी व्यक्ति की बीएमआई 19 से कम है तो वे अंडरवेट है। वजन 19 से 24 के बीच है व्यक्ति पूरी तरह स्वस्थ है। बीएमआई 24 से अधिक होने का मतलब है कि व्यक्ति ओवरवेट है। ऐसे में वजन बढ़ाने से पहले उसके कम होने का कारण जानना होगा जिससे भविष्य में कोई परेशानी नहीं होगी।

वजन कम होना आज के समय में एक सामान्य समस्या है। हालांकि इसको बढ़ाने से पहले वजन कम होने का कारण जानना चाहिए क्योंकि वजन कम होना या अंडरवेट होना किसी न किसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या का कारक है। जरूरी जांच व डॉक्टरी सलाह के बाद पौष्टिक आहार और फल को खाने में शामिल करने के साथ हल्की एक्सरसाइज की जाए तो वजन बढ़ सकता है।

वजन कम होने के ये संभावित कारण
वजन कम होने का पहला कारण हॉर्मोनल इंबैलेंस हैं जिसकी वजह से वजन स्थिर रहता है। हाइपो थॉयराइडजम जिसमें वजन तेजी से बढ़ता है और व्यक्ति कम समय में अधिक मोटा दिखने लगता है। हाइपर थॉयराइडजम में व्यक्ति का वजन तेजी से घटता है और वे बहुत अधिक दुबला-पतला दिखने लगता है। इसका कारण उसका मेटाबॉलिज्म रेट बहुत अधिक बढ़ जाना होता है जिससे वे बहुत अधिक खाना खाने लगता है। इसके अलावा कुपोषण एक सामान्य समस्या है जिसकी वजह से वजन कम होने की तकलीफ रहती है।

इरिटेबल बाउल सिंड्रोम

इरिटेबल बाउल सिंड्रोम बीमारी की वजह से आंतें खाना नहीं पचा पाती हैं जिस वजह से शरीर को पोषक तत्व नहीं मिल पाते और शरीर कमजोर दिखने लगता है। नींद न लगना या आधी अधूरी नींद लेने के साथ तनाव में रहने से भी भूख नहीं लगती है और वजन कम रहता है। ऐसे में इससे निजात पाने के लिए जीवनशैली में सुधार करना होता है।