अब आईआईटी बीएचयू ने बनाया विशेष छाता, कपड़े के ऊपर पहन लें तो कोरोना संक्रमण से करेगा बचाव

|

Updated: 16 Apr 2020, 12:36 PM IST

आईआईटी बीएचयू में भी इस तरह के नई तकनीकी इजात की जा रही है जिससे कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोका जा सके।

वाराणसी. कोरोना वायरस के बढते खतरे से निपटने के लिये जहां पूरी दुनियां में शोध किये जा रहे हैं, वहीं आईआईटी बीएचयू में भी इस तरह के नई तकनीकी इजात की जा रही है जिससे कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोका जा सके। अब संस्थान की ओर से सोशल डिस्टेंन्सिंग मेंटेन करने के लिए एक ऐसा छाता बनाया गया है। जिसे पहनकर दो लोगों के बीच में छह फीट की दूरी मेंटेन हो सकेगी। जिससे कोरोना के खतरे को रोका जा सकेगा। सबसे अच्छी बात ये है कि इसे नियमित पहनने वाले कपड़े के साथ भी पहनना है जिससे कोई भी आपके नजदीक तक नहीं पहुंच सकेगा वो तीन फ़ीट डोर से ही सम्पर्क कर पायेगा।

जानिए क्या है सोशलरिम

टेक मशीनरी एंड मोर प्राइवेट लिमटेड के निशांत कृष्णा एवं गौरव कुमार केडिया, एक अवधारणा 'SocialRim' के साथ आए हैं। यह कंपनी मालवीय सेंटर फॉर इनोवेशन, इनक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (MCIIE), आईआईटी (बीएचयू) वाराणसी में इनक्यूबेट है। SocialRim एक लिंग-तटस्थ स्कर्ट या 3 फीट के त्रिज्या के साथ एक छाता है जो सामाजिक दूरी को बनाए रखने में सहायता करता है। इसे नियमित पोशाक के ऊपर कंधे से लगाया जाता है और इसे एक आकार का रूप दे दिया जाता है ताकि कम से कम 3 फीट की दूरी बनाए रखी जा सके।

समय की है मांग

आईआईटी बीएचयू के मालवीय सेंटर फॉर इनोवेशन, इनक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (MCIIE) के समन्वयक प्रो. पी.के. मिश्रा, ने कहा कि सोशलरिम इस कोरोना के इस संकट के दौर में समय की आवश्यकता है और सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए एक सही विकल्प है इसके उपयोग करने से हम कोरोना के खतरे को रोक सकते हैं।

फुल बॉडी सेनेटाइज डिवाइस की भी खूब हुई चर्चा

इसके पहले आईआईटी बीएचयू ने फुल बॉडी सेनेटाइजर डिवाइस का निर्माण किया था। जो पूरे शरीर को सेनेटाइ करने का काम सिर्फ 15 सेकंड में करती है। यह डिवाइस घर दफ्तर या किसी भी स्थान पर लगाया जा सकता है। इससे बॉडी के साथ ही घड़ी, चश्मा, पर्स, बेल्ट आदि सामान भी सेनेटाइज किये जाते हैं। जिससे कोरोना का खतरा कम होता है।