सनवाड़ में किसानों को रहन ऋण बांटा

|

Published: 02 Jun 2020, 11:19 PM IST

सहकार किसान कल्याण योजना

उदयपुर. दी उदयपुर सेन्ट्रल को-ऑपरेटिव बैक लि. की शाखा फतहनगर कार्यक्षेत्र की सहकारी समिति सनवाड़ में मंगलवार को सहकार किसान कल्याण योजनान्तर्गत किसानों को रहन ऋण योजना के तहत ऋणों का वितरण किया गया। मावली के पूर्व विधायक पुष्कर लाल डांगी की अध्यक्षता में आयोजित इस कार्यक्रम में संभागीय अतिरिक्त रजिस्ट्रार प्रेमप्रकाश माण्डोत, केन्द्रीय सहकारी बैक के प्रबन्ध निदेशक आलोक चौधरी, समाजसेवी रोनक गर्ग, फतहनगर शाखा प्रबन्धक बालमुकुन्द खण्डेलवाल, सहकारी समिति अध्यक्ष डालुराम जाट, समिति व्यवस्थापक श्रवण कुमार त्रिपाठी एवं योजना के लाभार्थी उपस्थित थे। अतिथियों द्वारा सहकारी समिति के सदस्यो को योजना संबधी ऋण राशि के चैक वितरित किये गये। कार्यक्रम में कोविड 19 महामारी को देखते हुये सोशल डिस्टेसिंग के बीच पूर्व विधायक डांगी ने इस योजना को किसान के हित में बताते हुये क्षेत्र के किसानों को अधिक से अधिक लाभ उठाने का आह्वान किया। बैक के प्रबन्ध निदेशक चौधरी ने बताया कि योजना के तहत काश्तकार अपनी कृषि उपज को रहन कर मात्र तीन प्रतिशत ब्याज दर पर फसल उपज की वर्तमान बाजार भाव का 70 प्रतिशत ऋण के रूप में 90 दिवस की अवधि के लिये ऋण प्राप्त कर सकेगा। इसे विशेष परिस्थितियों में 180 दिन के लिए बढ़ाया जा सकेगा। बाजार में कृषि उपज का सही मूल्य प्राप्त होने की स्थिति में रहन फसल को विक्रय कर काश्तकार अपनी ऋण अदायगी कर सकेगे। योजनान्तर्गत लघु एवं सीमान्त कृषकों को 1.50 लाख एवं बडे काश्तकारों को 3 लाख रुपये तक की ऋण सुविधा प्रदान की जायेगी। यह ऋण उसके अल्पकालीन फसली ऋण के अतिरिक्त देय होगा। उन्होंने बताया कि पहले इस योजना में किसान को 11 प्रतिशत ब्याज की दर से ऋण दिया जा रहा था, अब किसान को 3 प्रतिशत ब्याज वहन करना होगा तथा शेष ब्याज की राशि राज्य सरकार द्वारा वहन की जायेगी। राज्य सरकार ने इस उपज रहन ऋण योजना हेतु 50 करोड़ का अनुदान फण्ड घोषित किया है। चौधरी ने बताया कि अब तक इस योजना में 38 किसानों को 16.85 लाख के ऋण वितरण किये गये है। उदयपुर सेन्ट्रल को-ऑपरेटिव बैक द्वारा प्रथम चरण में 31 समितियों से प्रारम्भ कर आगामी समय में लगभग 120 ग्राम सेवा सहकारी समितियोें/लेम्प्स के माध्यम से अधिक से अधिक किसानों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा है। अंत में अतिरिक्त रजिस्ट्रार माण्डोत ने आभार जताया।