Nikki Tamboli की मां के बारे में सोनाली फोगाट ने कही ऐसी बात, सोशल मीडिया यूजर्स ने लगाया राजनीति खेलने का आरोप

|

Published: 08 Jan 2021, 05:29 PM IST

  • इस हफ्ते बिग बॉस के घर में हुआ कैप्टेंसी टास्क
  • निक्की तंबोली की मां ने दिया राखी को अपना वोट
  • सोनाली फोगाट ने निक्की की मां पर निकाला गुस्सा

नई दिल्ली: बिग बॉस 14 (Bigg Boss 14) में इस वीक कंटेस्टेंट्स की फैमिली उनसे मिलने के आती है। गुरुवार को बिग बॉस ने एक कैप्टेंसी टास्क दिया था। इसमें आखिर में सोनाली फोगाट (Sonali Phogat) और राखी सावंत कैप्टेंसी पद के दावेदार बनते हैं। इसके बाद कंटेस्टेंट के घर से आए सदस्य से पूछा जाता है कि वो सोनाली और राखी में से किसे कैप्टन बनाना चाहते हैं।

ऐसे में सबसे पहले घर में निक्की तंबोली (Nikki Tamboli) की मां आती हैं। इस दौरान निक्की को आठ मिनट मिलते हैं उनसे मिलने के लिए। मां से मिलकर निक्की फूट-फूटकर रोने लगती हैं। वह अपनी मां से कहती हैं कि यहां सब फेक हैं। जिससे भी दोस्ती करने की सोचती हूं वो ही गेम खेल जाता है। इस पर उनकी मां कहती हैं कि हर कोई गेम खेल रहा है। यहां कोई दोस्त नहीं बनेगा। इसके साथ ही वह निक्की को सलाह देती हैं कि अपशब्दों का प्रयोग न करें।

कास्टिंग डायरेक्टर की इस बात को सुनकर Nora Fatehi ने कर लिया था भारत छोड़ने का फैसला

इसके बाद घर से निकलने से पहले बिग बॉस निक्की की मां से पूछते हैं कि वह सोनाली फोगाट और राखी सावंत में से किसे कैप्टन बनाना चाहती हैं। इस पर उन्होंने राखी का नाम लिया। इसके बाद वह घर से निकल जाती हैं। उनके जाने के बाद सभी घरवाले निक्की से गले मिलते हैं लेकिन सोनाली फोगाट उनसे नाराज हो जाती हैं। वो अर्शी से कहती हैं कि बेटी के साथ मां भी गेम खेल गई। अब निक्की की मां के लिए ये बात कहने पर सोशल मीडिया पर यूजर्स उन्हें खूब खरी खोटी सुना रहे हैं।

करोड़ों रुपए देकर Kapil Sharma ने डिजाइन करवाई थी वैनिटी वैन, दिलीप छाबड़िया ने किया ये धोखा

एक यूजर ने लिखा, निक्की तंबोली की मां ने राखी सावंत को अपना वोट दिया यह उनकी पसंद थी लेकिन सोनाली फोगाट क्यों ब्लेम कर रही हैं 'बेटी तो बेटी मां भी गेम खेल गई।' उसकी मां की बेइज्जती कर रही हैं। उन्हें किसी की मां से बात करने की तमीज नहीं है। वहीं एक यूजर ने लिखा कि बिग बॉस 14 में सोनाली फोगाट राजनीति खेल रही हैं। उन्हें किसी के परिवार के बारे में कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है।