अविका गौर का परिवार यूं लड़ा कोरोना से, दादा का हुआ निधन, दादी और पापा आए थे पॉजिटिव

|

Published: 04 May 2021, 02:05 PM IST

बालिका वधू फेम एक्ट्रेस अविका गौर ने अपने परिवार में कोरोना का कहर देख है। कोरोना से उनके दादा का निधन हो गया था। दादी और पापा भी पॉजिटिव आए थे। वे कहती हैं कि इस समय लोगों को एक-दूसरे की मदद करनी चाहिए। वैक्सीन लगवाएं और कोरोना से जंग जीत चुके लोग प्लाज्मा डोनेट करें।

मुंबई। एक्ट्रेस अविका गौर के परिवार को कोरोना ने बुरी तरह प्रभावित किया है। पहले अविका के दादा का निधन हो गया और फिर उनके पिता और दादी कोरोना पॉजिटिव आ गए। हाल ही अविका ने एक पोस्ट कर ताजा हालात की बात की है और लोगों से एक-दूसरे की मदद करने, प्लाज्मा डोनेट करने और जल्द से जल्द वैक्सीन लगवाने की अपील की है।

पिता डायबिटिक हैं और दादी 80 साल की
बालिका वधू एक्ट्रेस अविका गौर का कहना है,'मेरे पापा और दादी पॉजिटिव आए थे, महज तीन दिन बाद ही मेरे दादा का देहांत हो गया। हम सब पहले ही बहुत टूटे हुए थे और ये हमारे लिए बहुत बड़ा झटका था। मेरे पिता डायबिटिक हैं और दादी 80 साल की हैं। इसलिए हर मिनट डर लगता था। ये बहुत आसान नहीं था, लेकिन वे दोनों फाइटर्स हैं। वे इससे पार पा गए और मेरी मां और मैं जो कुछ भी उनके मदद के लिए कर सकते थे, वो किया।'

यह भी पढ़ें : बीच पर बॉयफ्रेंड संग रोमांटिक हुईं अविका गौर

एक-दूसरे की मदद ही समय की मांग
अविका का कहना है कि लोग सोशल मीडिया पर एक-दूसरे की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। कोविड की इस दूसरी लहर में लोग बहुत ही जिम्मेदारी से काम कर रहे हैं। सब लोग साथ आ रहे हैं और जितना वे कर सकते हैं, दूसरों की मदद कर रहे हैं। यही समय की मांग है। हालांकि हमारे देश की फिलहाल की हकीकत देखक कर दुख होता है, लेकिन जिस तरह लोग दूसरों की मदद कर रहे हैं, उसे देखकर दिल को अच्छा लगता है।

यह भी पढ़ें : Avika Gor ने सोशल मीडिया पर बयां किया अपना दर्द, बताया कैसे हुई फैट टू फिट

वैक्सीन लगवाना और प्लाज्मा डोनेट करना जरूरी
अविका का कहना है,'हमारी व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी के चलते वैक्सीन और प्लाज्मा डोनेशन को लेकर कुछ भ्रांतियां हैं। अगर कोई तरीके से चेक करना चाहे, तो लोगों को बताने के लिए पर्याप्त जानकारियां मौजूद है। लोगों को समझना चाहिए कि वैक्सीन बहुत जरूरी है। ये हमारे शरीर पर वायरस के प्रभाव को कम करती है। इसके बाद भी कोरोना हो सकता है, लेकिन वह इससे बेहतर तरीके से लड़ पाएगा। दूसरी तरफ प्लाज्मा डोनेट करना हर उस व्यक्ति की जिम्मेदारी है,जो कोविड से लड़ाई जीत चुका है। हम जितनी जिंदगियां बचा सकते हैं, हमें बचानी चाहिए।'