आधी रात को बसस्टैंड पर रंगदारों ने हथियारों के साथ काटा उत्पात

|

Published: 01 Aug 2021, 11:00 AM IST

दुकानों और गाडिय़ों की तोडफ़ोड़, रुपए और सामान भी छीना, पुलिस ने 8 आरोपियों पर किया मामला दर्ज, टीमें बनाकर दी जा रही दबिश

टीकमगढ़. पिछले कुछ समय से जिले में अपराधी और रंगदार बेखौफ होते दिख रहे है। बीती रात को पुराने बसस्टैंड पर लगभग एक दर्जन रंगदारों ने जमकर उत्पात काटा। कोतवाली से महज 500 मीटर की दूरी पर यह उत्पाती हथियार लहराते हुए वाहनों एवं दुकानों में तोडफ़ोड़ कर भाग निकले। दुकानदारों की माने तो वह यहां से सामान भी ले गए। शिकायत के बाद पुलिस ने 8 आरोपियों पर मामला दर्ज कर उनकी गिरफ्तारी के प्रसास शुरू कर दिए है।


शुक्रवार की रात्रि 11 बजे के लगभग पुराने बसस्टैंड पर अचानक से अफरा-तफरी मच गई। यहां पर चार-पांच बाइक पर सवाल होकर गालियां देते पहुंचे रंगदारों से बाइक रोककर सीधा वाहनों एवं दुकानों में तोडफ़ोड़ शुरू कर दी। इन उपद्रवियों ने यहां पर खड़ी कार, बस, ट्रक सहित आधा दर्जन वाहनों के जहां कांच तोड़ दिए, वही कुछ बाइक एवं दुकानों में भी तोडफ़ोड़ की। सामने कुछ लोगों की इनके द्वारा मारपीट भी की गई। वाहनों की जा रही तोडफ़ोड़ को देखकर बसों से जहां यात्री भाग खड़े हुए वहीं दुकानदार भी खुद की जान बचाकर भागे। लगभग आधा घंटे तक चले इस उपद्रव के बाद यह आरोपी दुकानों से कुछ सामान भी ले गए। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच की और आरोपियों की तलाश में वाहन दौड़ाए, लेकिन कोई हाथ नहीं आया।

 

दबिश देने टीमें रवाना
वहीं घटना के बाद पुलिस ने 8 आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया है। एसडीओपी कृष्णपाल सिंह ने बताया कि आरोपियों की शिनाख्त कर 6 नामदज और 2 अन्य आरोपियों पर मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी मोंटी चौहान, साहिल बाल्मीकि, अनुभव, तरूण, अनूप एवं प्रदुम्म बाल्मीकि के साथ ही दो अन्य आरोपी शामिल है। उन्होंने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें बनाकर दबिश दी जा रही है। विदित हो कि लगभग एक पखवाड़ा पूर्व भी कुछ बदमाशों ने नए बसस्टैंड पर एक ट्रक चालक के साथ लूटकर एक घर में पथराव किया था। इस मामले में भी पुलिस के हाथ खाली है।


10 बजे बंद करें दुकानें
घटना के बाद सुबह से भी अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर दुकानदारों से बात की और घटना के विषय में जानकारी ली। साथ ही पुलिस ने दुकानदारों से रात्रि 10 बजे अपनी दुकानें बंद करने को कहा। पुलिस का कहना था कि बाजार खुलने का एक निर्धारित समय होता है। इसी के अनुसार बसस्टैंड पर भी दुकानें खोली जाए। पुलिस के इन निर्देशों का दुकान संचालकों एवं बसस्टॉफ ने भी विरोध किया है। लोगों का कहना है कि यहां पर देर रात तक बसों का आवागमन होता है, यदि दुकानें जल्द बंद हो जाएंगी तो यात्रियों को पानी सहित अन्य चीजों के लिए परेशान होना पड़ेगा।

 

लोगों मेें दहशत
इस घटना के बाद से बसस्टैंड के दुकानदारों के साथ ही बसों में सवार यात्री भी दहशत में देखे गए है। दुकानदारों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि ऐसी घटनाएं लंबे समय बाद हुई है। ऐसे माहौल में काम करना मुश्किल होगा। वहीं यात्रियों का कहना है कि बस में कई महिलाएं एवं युवतियां अकेले ही सफर करने निकली थी। घटना के बाद से वह सभी परेशान है। विदित हो कि पिछले कुछ समय से ऐसी घटनाएं लगातार बढ़ रही है।


अनलॉक के बाद बड़ी घटनाएं
बसस्टैंड पर हुई इस घटना के बाद एसडीओपी कृष्णपाल सिंह का कहना था कि निश्चित रूप से अनलॉक के बाद अपराध बड़े है। उनका कहना है कि अपराधों को नियंत्रण करने पुलिस तत्परता से काम कर रही है। गश्ती पर जोर दिया जा रहा है। पुलिस लोगों को सुरक्षा देने हर संभव प्रयास कर रही है।