आदेशों के बाद भी मंडी गोदामों और दाल मीलों में गेट बंद करके चल रहा काम

|

Published: 28 Mar 2020, 06:00 AM IST

२२ मार्च से कृषि उपज मंडी को आगामी आदेश तक बंद कर दिया गया है। तब तक मंडी में न तो कोई व्यापारी काम करेगा और न ही मंडी को खोला जाएगा।


टीकमगढ़.२२ मार्च से कृषि उपज मंडी को आगामी आदेश तक बंद कर दिया गया है। तब तक मंडी में न तो कोई व्यापारी काम करेगा और न ही मंडी को खोला जाएगा। इसके बाद भी कृषि उपज मंडी में अनाज से लोड़ वाहनों की आवाजाही बनी हुई है। इसके साथ ही दाल मीलों के साथ अन्य मीलों का संचालन दरवाजा बंद करके किया जा रहा है। जो कोरोना वायरस को लेकर घातक हो सिद्ध हो सकता है।
जिले की बड़ागांव धसान, बल्देवगढ़, खरगापुर, पलेरा, जतारा, पृथ्वीपुर, निवाड़ी के साथ अन्य छोटो-बड़ी कृषि उपज मंडिय़ों को बंद रहने के आदेश आगामी आदेश जारी कर दिए गए है। कोरोना वायरस बचाव के लिए आगामी आदेश तक मंडी में न तो क ोई व्यापारी गोदामों में काम करेगा और न ही मजदूर काम पर जाएगा और न ही अनाज के वाहनों को लोड़ किया जाएगा। वायरस से बचने के लिए अधिक से अधिक लोगों को जागरूक के आदेश दिए गए है। लेकिन कृषि उपज मंडी की स्थिति उलट है। वहां पर व्यापारियों की मनमानी के कारण जागरूकता कम और संक्रमण के लिए न्यौता दे रहे है।
दरवाजोंं को बंद करके चला रहे कारोबार
मंडी के साथ दाल मीलों और अन्य मीलों के दरवाजे बंद करके मजदूरों से काम करवाए जा रहे है। जिसमें कोरोना वायरस बचाव के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे है। जबकि प्रधानमंत्री के साथ जिला प्रशासन द्वारा लोगों को एक जगहों पर खड़ा नहीं होना और लॉकडाउन का पालन करने के निर्देश दिए गए है। लेकिन मील मालिकों और व्यापारियों द्वारा नियमों का पालन नहीं किए जा रहे है। जो मानव जाति के लिए खतरा बना हुआ है।


इन स्थानों की है सूचना
मंडी के साथ आदिम जाति कल्याण छात्रावास, ढोंगा, कुंवरपुरा रोड़ के साथ ढोगा रोड़ पर ट्रांसपोर्ट, पुराना वन विभाग के पास ट्रंासपोर्ट के साथ अन्य स्थानों पर दरवाजा बंद करके कारोबारों को लगातार चलाया जा रहा है। यह कारोबार चलने से प्रशासन के साथ शहर की जनता को कोई परेशानी नहीं है। उससे बचने के लिए लोगों का एकत्रित होना घातक है।
महामारी से लडऩे के लिए हुआ लॉकडाउन
देश के साथ कई राज्यों में कोरोना वायरस ने अपने पैर जमा लिए है। यह वायरस अधिक न फैले उसके लिए जिला प्रशासन ने रविवार को जनता कफ्र्यू के साथ जिले की सीमाएं बंद कर दी है। इसके साथ ही जिले को लॉकडाउन कर दिया है। जिससे लोग एक दूसरे से नहीं मिल सके। लेकिन समाज और परिवार के दुश्मन इसके बाद भी अपने प्रतिष्ठानों को चालू और मजदूरों से काम करवा रहे है।
इनका कहना
कुछ ही मजदूर काम कर रहे है। उसको मंडी प्रशासन नहीं पुलिस प्रशासन और मंडी प्रशासक द्वारा रोका जाएगा। रात्रि के दौरान हलकी बारिश हुई थी। उस कारण से व्यापारी मजदूरों से काम करवा रहे होगी। मीलों की जांच क र कार्रवाई की जाएगी।
ओपी लक्ष्यकार सचिव कृषि उपज मंडी टीकमगढ़।