अयोध्या से वापस आए यात्री, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने की जांच

|

Published: 28 Mar 2020, 06:00 AM IST

अयोध्या धाम में भगवान रामलला दर्शन करने के लिए नवरात्रि के अष्टमी पर्व पर होने वाले रामजन्म उत्सव में शामिल होने के लिए जतारा क्षेत्र के ६० यात्री अयोध्या धाम गए हुए थे।

टीकमगढ़/बम्हौरीकलां.अयोध्या धाम में भगवान रामलला दर्शन करने के लिए नवरात्रि के अष्टमी पर्व पर होने वाले रामजन्म उत्सव में शामिल होने के लिए जतारा क्षेत्र के ६० यात्री अयोध्या धाम गए हुए थे। कोरोना वायरस को लेकर बाराबंकी के प्रशासन जांचकर उप्र रोड़वेज बस से वापस कर दिया है। इसके बाद जतारा एसडीएम द्वारा सभी लोगों की कनेरा पुलिस चौकी पर जांच की अपने-अपने घरों के लिए रवाना कर दिया है।
रावरात्रि पर्व में अष्टमी रामजन्म उत्सव को लेकर जतारा क्षेत्र के ६० श्रद्धालु श्रीराम भगवान के दर्शन करने के लिए गए थे। लेकिन देश और प्रदेश में कोरोना वायरस फैलने के कारण प्रदेश, जिला को लॉकडाउन कर दिया गया है। यह यात्री उप्र के बाराबंकी शहर पहुंचे थे। वहां के प्रशासन द्वारा इन्हे रोका गया। उसके बाद सभी लोगों का पता पूंछकर रोडवेज बस द्वारा टीकमगढ़ के जतारा थाना में पहुंचाया गया। मऊरानीपुर और कनेरा पुलिस चौकी के जवानों द्वारा सभी यात्रियों की जांच की गई।

मौके पर पहुंचा था प्रशासन
जानकारी मिलते ही जतारा एसडीएम डॉ. सौरभ सोनवणे के निर्देशन में बम्हौरी थाना प्रभारी मुकेश सिंह ठाकुर और कनेरा पुलिस चौकी प्रभारी शैलेंद्र सिंह के साथ स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची। इसके साथ ही मेडिकल ऑफिसर डॉ. महेंद्र कोरी द्वारा
सभी तीर्थ यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इसके बाद सभी को अपने-अपने घरों के लिए रवाना किया।
इन गांव से यात्री
क्षेत्र के ६० यात्री अयोध्या धाम के लिए श्रीराम भगवान के दर्शन करने के लिए गए थे। जिसमें प्रशासन द्वारा २० लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण टेलर नरेनी गांव के भेज दिया गया। बम्हौरीकलां के 3 यात्री, दो मुंबई से एक दिल्ली से वापस आए। इसके बाद बांकी के यात्री चंदेरा, दिगौड़ा के बताए गए है। उनका स्वास्थ्य परीक्षण करके उनके घर पहुंचाया गया है।
यह दी जानकारी
मेडिकल ऑफिसर डॉ. महेंद्र कोरी ने बताया कि हमारी स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरी तरह से काम कर रही है। हर स्थिति पर नजर रखी गई है। पुलिस प्रशासन का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है। लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। अगर कोई व्यक्ति बाहर से वापस आता है, तो उसकी सूचना हमें और पुलिस को दें। जिससे कि उनका स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें आम लोगों से दूर रखा जा रहा है। ताकि बीमारी का पता लगा जा सके। इस दौरान एसके शुक्ला, मैदा प्रजापति, मुकेश सिंह ठाकुर, एएसआई ओपी रावत, प्रधान आरक्षक रामपाल मिश्रा, गोटीराम प्रजापति, आरक्षक शैलेंद्र सिंह परिहार, राजेश दांगी, कमल सिंह मौजूद रहे।