ndps : 35.34 लाख के मादक पदार्थो के साथ तीन गिरफ्तार

|

Updated: 24 Jan 2021, 11:02 AM IST


- एमडी ड्रग और गांजे का कर रहे थे अवैध कारोबार
- MD was doing illegal business of drugs and cannabis

सूरत. ‘नो ड्रग इन सूरत’ मुहिम के तहत नशाखोरी पर लगाम लगाने में जुटी पुलिस ने एक ही दिन में दो मामलों में 35.34 लाख रुपए की खतरनाक एमडी ड्रग व गांजे की खेप के साथ तीन जनों को गिरफ्तार किया है।

शहर पुलिस आयुक्त अजय तोमर ने बताया कि क्राइम ब्रांच ने शहर में प्रतिबंधित एमडी ड्रग की बिक्री करने के आरोप में सौदागरवाड दार-ए-गनी बिल्डिंग निवासी अब्दुल कादर डोबीवाला (45) व उसके पुत्र उस्मान गनी उर्फ सलमान डोबीवाला (23) को गिरफ्तार किया है।

दोनों मुंबई के साकीनाका इलाके में रहने वाले मेंहदी उर्फ मोहम्मद जैद के पास से एमडी (मेफेड्रेन) ड्रग लाते थे और अपने घर में छिपा कर रखते थे तथा सूरत में अपने परिचित ग्राहकों को चोरी छिपे बेचते थे। उनके बारे में मुखबिर से पुख्ता सूचना मिलने पर पुलिस टीम ने छापा मारा। पुलिस को उनके घर से 133 ग्राम मेफेड्रोन बरामद हुई।

जिनकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 13.30 लाख रुपए आंकी गई है। इसके अलावा डिजिटल कांटा, तीन मोबाइल, लेपटॉप, पासपोर्ट व 9 हजार 640 नकद भी मिले। उनके खिलाफ मामला दर्ज कर मोहम्मद जैद को वांछित घोषित किया गया है।

इसी तरह से क्राइम ब्रांच की एक अन्य टीम ने गजेरा सर्कल के निकट से अश्वनी कुमार रोड बालू महाराज मंदिर निवासी चंद्रसिंह सिसोदिया (29) को गांजा तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया।

चंद्रसिंह किसी विक्की नाम के व्यक्ति के लिए टेम्पो नम्बर जीजे 5 सीयु 0178 में गांजे की तस्करी कर रहा था। उसके बारे में मुखबिर से पुख्ता सूचना मिलने पर शनिवार को जाल बिठा कर उसे कतारगाम गजेरा सर्कल के पास रोका गया।

तलाशी में उसके टेम्पो में नारियल के 26 थैलों में छिपा कर रखा गया 22.400 किलोग्राम गांजा बरामद हुआ। जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 22 लाख 4 हजार रुपए आंकी गई है। पुलिस ने उसके कब्जे से दो मोबाइल, एक हजार नकद भी जब्त किए है तथा मामला दर्ज कर विक्की को वांछित घोषित किया है।