SURAT PROUD NEWS: उम्र 13 साल और गोल्ड मेडल जीती 15

|

Updated: 07 Mar 2021, 09:07 PM IST

प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती और बचपन में ही बच्चों को माता-पिता और गुरुजन से सही सीख मिल जाए तो उम्र से बड़ा काम करने से कोई नहीं रोक सकता। यह बात सही है और ऐसा ही 13 साल की ताइक्वांडो चैम्पियन वेदिका ने कर दिखाया है, उसकी उम्र से अधिक 15 गोल्ड मेडल अभी तक वह जीत चुकी है।

सूरत. प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती और बचपन में ही बच्चों को माता-पिता और गुरुजन से सही सीख मिल जाए तो उम्र से बड़ा काम करने से कोई नहीं रोक सकता। यह बात सही है और ऐसा ही 13 साल की ताइक्वांडो चैम्पियन वेदिका ने कर दिखाया है, उसकी उम्र से अधिक 15 गोल्ड मेडल अभी तक वह जीत चुकी है।
विश्व महिला दिवस के उपलक्ष पर विशेष बातचीत में 13 वर्षीया वेदिका गोयल बताती है कि वह जब सात साल की थी तब से ही ताइक्वांडो सीखकर विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने लगी थी। इसमें उसके एसडी जैन स्कूल के शिक्षकों व माता-पिता के अलावा प्रशिक्षक पमीर शाह की मेहनत का ही परिणाम है कि वह डिस्ट्रिक, स्टेट, नेशनल ही नहीं बल्कि एशियन व इंटरनेशनल गेम्स में भी भारत की ओर से भाग ले चुकी है। अभी तक वेदिका जिला स्तर पर आयोजित होने वाले खेल महाकुंभ में 6 स्वर्णपदक, गुजरात स्तर के टूर्नामेंट में 7 स्वर्णपदक व राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में 2 स्वर्णपदक जीत चुकी है। इसके अलावा 2019 में उज्बेकिस्तान में आयोजित एशियन गेम्स व जॉर्डन में आयोजित वल्र्ड चैंपियनशिप में भी भाग ले चुकी है। इसके अलावा थाइलेंड में आयोजित टूर्नामेंट में भी वेदिका कांस्य पदक जीत चुकी है। वेदिका के माता-पिता प्रीति व अमित ने बताया कि बचपन से ही वेदिका जुड़ो-कराटे और ताइक्वांडो की तरफ आकृष्ट हो गई थी, हमने भी उसे इन सबमें सहयोग किया शायद यह उसी का परिणाम है और वह खेलकूद के साथ-साथ पढऩे-लिखने में भी उतनी ही होशियार है।